इन करणों के बढ़ते ही होती हैं दिमाग में सूजन का खतरा

दिमाग का काम है शरीर को ठीक ढंग से चलाना। मगर जब इसमें सूजन आना खतरनाक होता है।

दिमाग में सूजन आने से सिरदर्द, गर्दन दर्द, चक्कर आने और आंखों के आगे अंधेरा छाना जैसी समस्याएं होने लगती है।अगर समय रहते इनका इलाज ना करवाया जाए तो यह परेशानियां बड़ी बीमारी का रूप भी ले सकती है। एेसे में स्वस्थ रहने के लिए मस्तिष्क में सूजन होने के कारणों के बारे में जान लेना बहुत जरूरी होता है ताकि इससे बचा जा सके।

1. ज्यादा पानी पीने के कारण सूजन

ज्यादा से ज्यादा पानी पीने से शरीर के कई हिस्सों में सूजन आ जाती है। उन्हीं में से एक है दिमाग। हाल ही में हुए शोध में पता चला है कि ज्यादा मात्रा में पानी पीने से शरीर में सोडियम की मात्रा बहुत ज्यादा कम हो जाती है, जिससे मस्तिष्त में सूजन आने लगती है।

2. वायरस और बैक्टीरिया के कारण

मेनिनजाइटिस, इंसेफ्लाइटिस, टॉक्सोप्लाज्मोसिस आदि इंफेक्शन के कारण सिर में सूजन होने लगती है। इसके अलावा पत्तागोभी खाने से भी यह समस्या हो सकती है।

3. सिर की गंभीर चोट

सिर पर गंभीर चोट लगाने के कारण भी दिमाग में सूजन आ जाती है। कई बार रोड एक्सीडेंट या सिर पर किसी बाहरी चीज से चोट लगने के कारण दिमाग की हड्डियां टूट जाती है जिससे वह अपनी जगह से खिसकर नसों में चली जाती हैं। इससे दिमाग को पूरी तरह से खून नहीं पहुंच पाता, जो दिमाग में सूजन का सबसे बड़ा कारण है।

4. बहुत ऊंचाई पर चढ़ने से दिमाग में सूजन

कुछ लोगों को ऊंचाई पर चढ़ने के कारण भी दिमाग में सूजन आने लगती है। एेसा आमतौर पर उन लोगों के साथ होता है जो पहाड़ी क्षेत्र या फिर ज्यादा ऊंचाई पर नहीं जाते ।

5. ब्रेन हैमरेज या स्ट्रोक

ब्रेन हैमरेज या स्ट्रोक होने पर खून का थक्का जम जाता है। एेसा होने किसी भी इंसान के लिए बहुत खतरनाक होता है। ब्लड प्रेशर बढ़ने से ब्रेन हैमरेज बढ़ता है। प्रेशर बढ़ने पर दिमाग की नसे फट जाती हैं।<>

Back to top button