यूरोपीय यूनि‍यन : Facebook, Google जैसी बड़ी कम्पनियों पर लगेगा टैक्स..

अमेरिका से फिर बढ़ेगी तकरार

नई दिल्ली : यूरोपियन यूनियन की तरफ से फेसबुक, गूगल और ट्विटर पर डिजिटल कर लगाने की बात कही गयी हैं। फ़िलहाल अभी यह सिर्फ प्रस्ताव हैं। पर इस खबर से ही डिजिटल कारोबार करने वाले कंपनियों की मुश्किलें बढ़ने की आशंका हैं। क्योंकि इन सभी कंपनियों को अब एक और कर के लिए तैयार होना होगा, दरअसल 28 देशो के संध यूरोपीय यूनियन ने पहली बार डिजिटल कर लगाने का प्रस्ताव दिया हैं।

हर साल 5 अबर कमाने का लक्ष्य

यूरोपि‍यन यूनि‍यन की ओर से दि‍ए गए प्रस्‍ताव में कहा गया है कि‍ इस कर से हर साल 5 बि‍लि‍यन यूरो यानी करीब 4000 करोड़ रुपए कमाने का लक्ष्य है। लेकि‍न इसके लि‍ए कुल कारोबार पर करीब 3 फीसदी कर लगाना होगा। कहा जा रहा है कि‍ इस कर को अप्रैल से लागू किया जा सकता है।

इन कंपनि‍यों पर पड़ेगा सबसे ज्‍यादा प्रभाव

यूरोपीय यूनियन यानी यूरोप के 28 देशों में कारोबार करने वाली कंपनी जिनकी आय डिजिटल कारोबार से आती है। उनके कारोबार पर 3 फीसदी कर लगाने का प्रस्ताव दि‍या है। इससे गूगल, फेसबुक, एप्पल, उबर और अमेजन जैसी बड़ी कंपनियों पर प्रभाव पड़ेगा। हालांकि, इससे पहले कर ड्राफ्ट में दरें एक से पांच फीसदी के बीच थी। लेकि‍न बाद में इन्‍हें संशोधित कर 3 फीसदी पर लाया गया।

अभी कम कर देती हैं डिजिटल कंपनियां

डिजिटल कंपनियों कर की दरें अभी कम हैं, जिसकी वजह से यह कदम उठाया गया है। फिलहाल अन्य कंपनियां यूरोपीय संघ में 23.3 फीसदी की प्रभावी कर दर से भुगतान कर रही है। जबकि, डिजिटल कंपनियों ने औसत 9.5 फीसदी का भुगतान किया है।

क्‍या है मामला
डि‍जि‍टल कर लगाकर सि‍लि‍कन वैली की बड़ी कंपनि‍यों पर लगाम लगाने की यूरोपि‍यन यूनि‍यन की कोशि‍श कहीं अमेरि‍का से चल रहे ट्रेड वॉर में आग में घी काम न करे। क्‍योंकि‍ इसी महीने ट्रंप ने स्‍टील पर 25 फीसदी आयात शुल्‍क जबकि एल्यूमिनियम के आयात पर 10 फीसदी शुल्क लगाने का निर्णय किया था। इसके बाद यूरोपि‍यन यूनि‍यन ने वि‍रोध करने पर ट्रंप ने यूरोपि‍यन कारों पर भी कर लगाने की बात कही थी। इसके अलावा ट्रम्‍प ने ट्वीट के जरि‍ए कहा था कि‍ यूरोपि‍यन यूनि‍यन अमेरि‍का के साथ व्यापार को लेकर बहुत बुरा व्‍यवहार करता है।

advt
Back to top button