आजादी के बाद भी यहाँ वाशिंदों ने नहीं देखी बल्ब की रोशनी!

कई विद्युत विभाग से संबंधित बड़ी योजनाएं धराशायी

कानपुर देहात :

आज़ादी के बाद आज भी कानपुर देहात में ऐसे नजारा दिखता है जहां अब भी विकास के नाम पर सिर्फ अधेरा देखने को मिलता है। जी हां हम कानपुर देहात का ही बात कर रहे है।

सरकार ने सभी गांवों मे विधुतीकरण कराने के लिए कई योजनाओं की शुरुआत की है। उनका यह मकसद है कि कोई भी गांव अंधेरे मे न रहे लेकिन हम आपको ऐसे गांव की बात बता रहे हैं जहां के वाशिंदो ने आज तक गांव के घरों मे बल्ब की रोशनी नहीं देखी है।

विद्युतीकरण न होने से गांव आधुनिकता से कोसों दूर है। सरकार बदलती रहीं, कई विद्युत विभाग से संबंधित बड़ी योजनाएं धरातल पर आईं लेकिन हाजीपुर गांव में रोशनी की किरन ने दस्तक नहीं दी। ग्रामीण आज भी इस गांव के दिन बहुरने के इंतजार में बैठे हैं।

दरअसल कानपुर देहात के भोगनीपुर तहसील क्षेत्र के हाजीपुर गांव का कुछ यही आलम है। जहां के लोग बिजली से आज भी अंजान हैं। सरकार ने गांवों मे बिजली पहुंचाने के लिए कई योजनाओं की शुरुआत तो कर दी है और प्रचार प्रसार के द्वारा लोगों को सरकार की उपलब्धियों से अवगत भी करा रहे हैं।

यहां तक कि पदयात्रा कर ग्रामीणों से रूबरू होकर रोज गांवों की संख्या बताकर इनमें विधुतीकरण हो जाने का लक्ष्य भी गिनाया जा रहा है। लेकिन अगर देखा जाए तो वास्तिवकता मे जमीनी हकीकत कुछ अलग किस्सा बयां कर रही है। बिजली तो दूर की बात है, गांव अभी भी विकास के नाम पर कोसों दूर खड़ा है।

new jindal advt tree advt
Back to top button