वास्तु

हर शुक्रवार करें दक्षिणावर्ती शंख से कृष्ण का जलाभिषेक,मां लक्ष्मी होगी प्रसन्न

इस उपाय से व्यक्ति के जीवन की परेशानी हो जाएंगी दूर

पौराणिक मान्यता और हिंदू धर्म के अनुसार किसी भी तरह की सिद्धि पाने के लिए चार रातें सबसे अच्छी और शुभ मानी जाती है।

पहली है दीपावली, दूसरी है शिवरात्रि, तीसरी है होली व चौथी है मोहरात्रि अर्थात जन्माष्टमी यानि इन दिनों किए गए उपाय ज़रूर सफल होते हैं। तो आइए जानते हैं वास्तु के अनुसार श्री कृष्ण जन्माष्टमी की रात 12 बजे किए जाने वाले कुछ विशेष उपाय। जिसे करने से व्यक्ति के जीवन की परेशानी मिट जाती है।

धन-लाभ के और आर्थिक संकट के निवारण के लिए

इस दिन सुबह स्नान आदि करने के बाद राधा-कृष्ण मंदिर में जाकर भगवान कृष्ण को पीले फूलों की माला अर्पण करें। इससे आर्थिक संकट दूर होने लगते हैं। इससे धन लाभ के योग प्रबल होते हैं।

मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए

सुबह दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर श्रीकृष्ण का अभिषेक करें। इसके बाद यह उपाय हर शुक्रवार को करें। इस उपाय को करने वाले जातक से मां लक्ष्मी शीघ्र प्रसन्न होती हैं और समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

ऐश्वर्य प्राप्ति

इस पावन दिन श्रीकृष्ण को सफ़ेद मिठाई, साबुतदाने और चावल की खीर अपनी इच्छानुसार मेवे डालकर बनाकर उसका भोग लगाएं उसमें चीनी की जगह मिश्री डालें, एवं तुलसी के पत्ते भी अवश्य डालें। इससे भगवान द्वारकाधीश की कृपा से ऐश्वर्य प्राप्ति के योग बनते हैं।

यश प्राप्ति

हिंदू धर्म में कृष्ण पीतांबर धारी भी कहा जाता है जिसका अर्थ है जो पीतांबर धारी पीले रंग के वस्त्र पहनने धारण करता हो। इसलिए जन्माष्टमी के दिन किसी मंदिर में भगवान के पीले रंग के कपड़े, पीले फल, पीला अनाज व पीली मिठाई दान करने से भगवान श्रीकृष्ण व माता लक्ष्मी दोनों प्रसन्न रहते हैं, उस जातक को जीवन में धन और यश की कोई भी कमी नहीं रहती।

सर्व कार्य सिद्धि

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के दिन कान्हा के मंदिर में जटा वाला नारियल और कम से कम 11 बादाम चढ़ाएं। ऐसी मान्यता है कि जो जातक जन्माष्टमी वाले दिन इस उपाय की शुरूआत करके लगातार सत्ताइस दिन तक जटा वाला नारियल और बादाम चढ़ाता है उसके सभी काम सिद्ध होते हैं और उसको जीवन में किसी भी चीज़ का आभाव नहीं रहता।

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags
advt