मध्य प्रदेश में हर रोज 13 महिलाओं युवतियां दुष्कर्म का शिकार हो रही हैं

मध्य प्रदेश में हर रोज 13 महिलाओं युवतियां दुष्कर्म का शिकार हो रही हैं

भारतीय जनता पार्टी शासित मध्य प्रदेश को एक बार फिर दुष्कर्म के मामले में शर्मसार होना पड़ा है. राज्य में दुष्कर्म के मामलों में फिर बढ़ोतरी हुई है. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की जारी ताजा रिपोर्ट में रेप के मामले में मध्य प्रदेश पहले नंबर पर है. राज्य में औसतन हर रोज 13 युवतियां दुष्कर्म का शिकार बन रही हैं.

मध्य प्रदेश में बालिका जन्म को प्रोत्साहित करने से लेकर महिला सशक्तिकरण के लिए लाडली लक्ष्मी योजना, लाडो योजना, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना, मुख्यमंत्री साइकिल योजना तो संचालित हो रही है, साथ में युवतियों को आत्मसुरक्षा के लिए सक्षम बनने हेतु शौर्या दल बनाए जा रहे हैं, मगर महिला अपराधों को लेकर जो आंकड़े सामने आए हैं, वे चौंकाने वाले हैं.

एनसीआरबी की रिपोर्ट वर्ष 2016 की अवधि को लेकर आई है. यह रिपोर्ट बताती है कि देश के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में दुष्कर्म की 38,947 वारदातें हुई हैं. इनमें सबसे ज्यादा वारदातें 4,882 मध्य प्रदेश में हुई हैं.

आंकड़ों पर गौर करें तो एक बात साफ हो जाती है कि राज्य में औसतन हर रोज 13 महिलाएं दुष्कर्म का शिकार बन रही हैं. एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार, इसी अवधि में उत्तर प्रदेश में 4,816, महाराष्ट्र में 4,189 दुष्कर्म के मामले दर्ज किए गए.

Back to top button