350 करोड़ की टैक्स चोरी का खुलासा, तापसी पन्नू के 5 करोड़ कैश लेने के सबूत भी मिले

कंगना ने ट्वीट कर की पीएम मोदी की तारीफ

मुंबई: टैक्स चोरी की सूचना मिलने पर आयकर विभाग की टीम ने बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू और फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप सहित बॉलीवुड से जुड़े कई नामी लोगों के घर और ऑफिस पर दबिश दी है। बताया जा रहा है कि इस दौरान आयकर की टीम ने लगभग 350 करोड़ रुपए की टैक्स चोरी पकड़ी है। फिलहाल कार्रवाई जारी है। वहीं, आयकर विभाग ने आज गुरुवार को जारी अपने बयान में कहा कि सर्च के दौरान इन प्रोडक्शन हाउस के आय और शेयर में बड़े पैमाने पर हेराफेरी के सबूत मिले हैं।

मिली जानकारी के अनुसार आयकर की टीम को 350 करोड़ रुपए की टैक्स हेराफेरी का पता लगा है। बताया गया कि कंपनी के अधिकारी 350 करोड़ रुपए का हिसाब देने में नाकाम रहे। वहीं तापसी पन्नू के नाम पर 5 करोड़ की कैश रिस्पिट रिकवर हुई है जिसकी जांच जारी है।

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने आयकर विभाग की प्रेस विज्ञप्ती सोशल मीडिया पर शेयर किया है। साथ ही यह लिखा है कि जो चोर होते हैं वो सिर्फ़ चोर होते हैं, जो मातृभूमि को बेचकर उसके टुकड़े करना चाहते हैं वो सिर्फ़ ग़द्दार होते हैं, और जो ग़द्दारों का साथ देते हैं वो भी चोर होते हैं… क्योंकि चोर चोर मौसेरे भाई होते हैं और जिससे चोरों को डर लगता है। वो साधारण मानव नहीं नरेंद्र मोदी होता है।

इनकम टैक्स विभाग की ओर से कहा गया कि है कि 3 मार्च से 2 बड़े फिल्म प्रोडक्शन हाउस, एक अभिनेत्री और मुंबई की 2 टैलेंट मैनेजमेन्ट कंपनी के ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। ये छापेमारी मुंबई, दिल्ली, पुणे और हैदराबाद में चल रही है। ऑफिस और आवास समेत मिलाकर कुल 28 जगहों पर छापेमारी हो रही है।

बताया गया कि ये दो अलग-अलग मामले चल रहे हैं। एक फैंटम फिल्म्स के शेयरधारकों के खिलाफ है और दूसरा मामला तापसी पन्नू के खिलाफ है। तापसी पन्नू और उनकी कंपनी पर करीब 25 करोड़ रुपए की आयकर चोरी का शक है। तापसी ने करीब 5 करोड़ रुपए नकद पैसे लिए। उनकी कंपनी भी आयकर चोरी में शामिल है। उनका करार भी आईटी के रडार पर है।

जो चोर होते हैं वो सिर्फ़ चोर होते हैं, जो मातृभूमि को बेचकर उसके टुकड़े करना चाहते हैं वो सिर्फ़ ग़द्दार होते हैं, और जो ग़द्दारों का साथ देते हैं वो भी चोर होते हैं…
क्यूँकि चोर चोर मौसेरे भाई होते हैं
और जिससे चोरों को डर लगता है

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button