आबकारी घोटाला: पुलिस ने किया फरार ठेकेदार सहित दो मददगारों किया गिरफ्तार

आबकारी विभाग के 41.40 करोड़ रुपए के घोटाले के बहुचर्चित मामले में फरार शराब ठेकेदार और उसके दो मददगारों को पुलिस ने गुरुवार को धर दबोचा है.अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि मुखबिर की सूचना पर शराब ठेकेदार दीपक जायसवाल और उसके दो मददगारों-दीपक हरिप्रसाद और विजय जायसवाल को नजदीकी राऊ कस्बे के गोल चौराहे से पकड़ा गया.तीनों लोग कार से धार जिले के पर्यटन स्थल मांडू से इंदौर की तरफ आ रहे थे.

उन्होंने बताया कि पुलिस ने इस मामले में दो अन्य फरार ठेकेदारों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है.

  41.40 करोड़ रुपए का लगा चूना

इंदौर जिले में शराब ठेकेदारों द्वारा जालसाजी के जरिए  प्रदेश सरकार को करीब 41.40 करोड़ रुपए के राजस्व का चूना लगाने के घोटाले का खुलासा पिछले महीने हुआ था.

इसके बाद प्रशासन ने कुल 10 शराब ठेकेदारों और उनके 6 साथियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज कराए थे. पुलिस के एक जांचकर्ता अधिकारी ने बताया कि आरोपी ठेकेदारों ने ठेका नीलामी की राशि की किश्तों के भुगतान और मदिरा का कोटा खरीदने के लिए पिछले दो सालों के दौरान बैंक में तय राशि से कम रकम के चालान जमा कराए.

लेकिन इस चालान की प्रति में पेन से हेर-फेर कर आबकारी विभाग को गलत सूचना दी कि उन्होंने बैंकों में तय राशि के चालान जमा कराए हैं. सिलसिलेवार फर्जीवाड़े से सरकारी खजाने को कुल 41.40 करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचा.

Back to top button