छत्तीसगढ़

छात्राओं को समझाए आत्म सुरक्षा के नैतिक मार्ग

श्री साई बाबा आदर्श महाविद्यालय में महिला प्रकोष्ठ एवं जेन्डर ईशू क्लब द्वारा व्याख्यान कार्यक्रम आयोजित कर छात्राओं को आत्मसुरक्षा के नैतिक मार्ग बताए गए। इस अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में राष्ट्र सेविका समिति की प्रांत संपर्क प्रमुख सुश्री अंजलि महापात्रा ने छात्राओं का मार्गदर्शन किया।

कार्यक्रम के प्रारंभ में दीप प्रज्ज्वलन के पश्चात् मुख्य वक्ता का श्रीफल एवं पुष्पगुच्छ से स्वागत किया गया। स्वागत उद्बोधन में प्राचार्य ने छात्राओं को अत्यंत मूल्यवान निरूपित करते हुए कहा कि आज हर क्षेत्र में महिलाओं ने न केवल पुरूषों की बराबरी की है अपितु अनेक क्षेत्रों में आगे भी है। समाज का परिवेश तथा दृष्टि दोनों में ही विकृति आई है अतः छात्राओं को स्वयं की क्षमता पहचानते हुए अपनी सुरक्षा के प्रति भी सजग रहना होगा।

अपने व्याख्यान में मुख्य वक्ता सुश्री अंजलि पात्रा ने कहा कि भारत शब्द का अर्थ है ज्ञान मेें रत होना अर्थात् विश्व में ज्ञान के उदय का केन्द्र भारत ही है। भारत ने अपने दिव्य ज्ञान से संपूर्ण विश्व को आलोकित किया है तथा भारतीय होने के कारण ज्ञान की उपासना करना ही हमारा धर्म है। वास्तव में किसी विषय का ज्ञान होने पर मार्ग की समस्त समस्याओं का हल प्राप्त हो जाता है। भारतीय दर्शन में स्त्री की श्रेष्ठता का एक प्रमुख पक्ष है तथा अनेक विदुषी एवं वीरांगनाओं ने अपने कृतित्व से इस श्रेष्ठता को प्रमाणित करते हुए हमारे लिए मानक एवं आदर्श स्थापित किए है। साहस, आत्मबल एवं ज्ञान को आत्मसात कर महिलाएं समाज में न केवल निर्भीकता से रह सकती है। इस अवसर पर बी.ए. भाग दो की छात्रा प्रीति तिवारी ने महिला संवर्धन के संबंध में सुमधुर गीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संयोजन एवं आभार प्रदर्शन डाॅ. किरण श्रीवास्तव तथा संचालन डाॅ. अलका पांडेय ने किया।

कार्यक्रम में महाविद्यालय की समस्त छात्राओं सहित जेन्डर ईशू क्लब के प्रभारी डाॅ. विनोद कुमार साहू, सहायक प्राध्यापक राकेश सेन, जसप्रीत कौर, नीति इंगोले, विनीता मेहता, नेहा अग्निहोत्री उपस्थित थे।