ढाबे पर पिस्टल चलाने का तरीका बताते हुए किया फायर, युवक की जांघ में लगी गोली

भानूप्रताप ने शैलेष से कहा कि तुम्हारे बारे में बहुत शिकायतें मिल रही हैं कि तुम पिस्टल लेकर चलते हो।

अंकित मिंज/बिलासपुर।

देख ऐसे चलती है पिस्टल कहकर फायर किया तो गोली सामने बैठे युवक की जांघ में जा लगी। गोली लगते ही भगदड़ मच गई और जिसे जहां जगह मिली वह वहीं छिप गया।

गोली चलने के बाद आरोपी ने घायल को एक प्राइवेट अस्पताल में अपना भाई बताकर गलत नाम से भर्ती करा दिया। पुलिस पहुंची तो आरोपी अस्पताल से भाग निकला। देर रात वह जैतहरी रेलवे स्टेशन पर देशी पिस्टल के साथ पकड़ा गया।

मोटर मैकेनिक ने टोका तो हुई बहस घटना गौरेला इलाके के केरजाभादा टोला के एक ढाबा पर सोमवार शाम 4ः30 बजे की है। शैलेष श्रीवास्तव व शंकर नाम के युवक ढाबा पर बैठे थे।

मोटर मैकेनिक भानूप्रताप सिंह भी वहां पहुंचा। भानूप्रताप ने शैलेष से कहा कि तुम्हारे बारे में बहुत शिकायतें मिल रही हैं कि तुम पिस्टल लेकर चलते हो।

इस पर शैलेष ने इनकार किया पर जब वह बहस करने लगा तो शैलेष ने कमर से पिस्टल निकाली और भानूप्रताप को गोली चलाना बताते हुए फायर कर दिया।

गोली सीधे भानूप्रताप के दाएं जांघ में लगी। गोली चलते ही ढाबा में भगदड़ मच गई। इसके बाद शैलेष भानूप्रताप को बिलासपुर लेकर आया और उसे आरबी अस्पताल में भर्ती कराया।

भाई बताकर भर्ती करा गया शैलेष ने गोली चलाने के बाद मामले को रफा-दफा करने के लिए भानूप्रताप को बिलासपुर के आरबी अस्पताल में अपना भाई बताकर भर्ती करा दिया।

आरबी अस्पताल में शैलेष ने भानूप्रताप को शिवम श्रीवास्तव के नाम से भर्ती कराया। घटना की जानकारी जब पुलिस को लगी तो सिविल लाइन थाने से पुलिस अस्पताल पहुुंची।

यहां जाकर जब गोली लगने से घायल हुए भानूप्रताप से बयान लिया तो उसने पूरी घटना बताई। इसी दौरान पुलिस ने आरबी अस्पताल के प्रबंधन को भी फटकार लगाई कि गोली चलने के बाद अगर कोई भर्ती हुआ है तो फिर इसकी जानकारी पुलिस को क्यों नहीं दी गई?

प्रबंधन ने बताया कि शैलेष ने घायल को भाई बताकर भर्ती कराया। डॉक्टर को बताया पिस्टल साफ करते समय चली गोली आरबी हॉस्पिटल के डॉ. रमेश गुप्ता के अनुसार शैलेष ने बताया कि गलती से पिस्टल साफ करते समय गोली चल गई।

गोली घायल के दाएं पैर पर लगी थी। मैंने पुलिस को सूचना देने के लिए मेमो बना लिया था। अटेंडर शैलेष का हस्ताक्षर नहीं हो पाया था इसलिए उसे पुलिस के पास भिजवा नहीं पाया। मेमो अस्पताल में ही था।

आदतन बदमाश है शैलेष

मिली जानकारी के मुताबिक पिस्टल से गोली चलाने वाला शैलेष मूलतः अनूपपुर का रहने वाला है और गौरेला में रहता है। अनूपपुर में भी इसके खिलाफ कई मामले दर्ज है।

शैलेष की पत्नी गाैरेला में ब्यूटी पार्लर चलाती है।

पुलिस को नहीं पता कि गोली चली सरेआम ढाबा पर गोली चलने की घटना की जानकारी पुलिस को नहीं है। गौरेला टीआई राजकुमार सोरी से जब इस बारे में जानकारी चाही गई तो उनका कहना था कि उनके क्षेत्र में कहीं गोली चलने की घटना नहीं हुई है।

advt
Back to top button