फेसबुक ने तालिबान को आतंकी संगठन बताकर किया बैन

अफगानिस्तान में एक तरफ जहां तालिबान ने जबरदस्ती कब्जा कर लिया है

नई दिल्ली : अफगानिस्तान में एक तरफ जहां तालिबान ने जबरदस्ती कब्जा कर लिया है और लोग जान बचाकर दूसरे देशों की ओर भाग रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ वह अपने हथियार के बल पर वहां सरकार बनाने जा रहा है. दूसरी तरफ, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक ने कहा कि उसने तालिबान और उसके समर्थन करने वाले सभी कंटेंट को उसने प्रतिबंधित कर दिया है, क्योंकि वह इस समूह को एक आतंकी संगठन मानता है.

कंपनी ने बताया कि इसने आतंकी संगठन से जुड़े कंटेंट पर निगरानी रखने और उसे हटाने के लिए अफगान एक्सपर्ट की एक टीम बनाई है. वर्षों से तालिबान अपने संदेश को पहुंचाने के लिए लगातार सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता रहा है. फेसबुक के प्रवक्ता ने बताया- हमारे पास अफगान एक्सपर्ट की एक टीम है, जिसमें दारी, पश्तो के रहने वाले लोग शामिल हैं और उन्हें स्थानीय चीजों की पूरी जानकारी है. ताकि प्लेटफॉर्म पर उभरते मुद्दों की पहचान करने और सतर्क करने में मदद करते हैं.

फेसबुक (FB) ने तालिबान को सोशल प्लेटफॉर्म पर किया बैन

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए फेसबुक के प्रवक्ता ने बताया- “अमेरिकी कानून के तहत तालिबान को आतंकी संगठन करार दिया गया है और हमने अपनी पॉलिसी के तहत उन्हें अपनी सेवाओं से बैन कर दिया है. इसका मतलब ये है कि हमने तालिबान और उसके समर्थन वाले कंटेंट को प्रतिबंधित कर दिया है.”

इधर, ट्विटर के प्रवक्ता ने कहा- “अफगानिस्तान में स्थिति तेजी के साथ बदल रही है. हम यह देख रहे हैं कि लोग ट्विटर पर मदद मांग रहे हैं. ट्विटर की सबसे पहली प्राथमिकता लोगों को सुरक्षित रखना है और हम सतर्क हैं.” ट्विटर ने आगे कहा कि हम अपने नियमों को कड़ाई से लागू करेंगे और नियमों का उल्लंघन करने वाले कंटेंट की समीक्षा जारी रखेंगे, विशेष रूप से हिंसा के महिमामंडन, प्लेटफॉर्म का मैनुपुलेशन और स्पैम के खिलाफ नीतियों को लेकर.

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में तालिबान से लड़ाई उस वक्त और खूनी संघर्ष का रूप ले लिया जब वे रविवार को काबुल के बाहरी इलाकों में प्रवेश कर गए. राष्ट्रपति भवन को कब्जा में लेने और राष्ट्रपति अशरफ गानी के देश छोड़कर भागने से पहले तालिबान लड़ाकों ने खूब उत्पात मचाया.

 

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button