FACEBOOK: मार्क जकरबर्ग के सुरक्षा में खर्च होते है लगभग 70 करोड़ सालाना, मिलती है ये सुविधाएं

मुंबई: फेसबुक एक ऐसी सुविधा है जो फाइदा के साथ साथ नुकसान भी पहुंचा सकता है। मार्क जकरबर्ग पर आए दिन डाटा चोरी के इल्जाम लगते रहते हैं। इस लिए ज्यादातर जिम्मेदारी और आलोचना कंपनी के सीईओ मार्क जकरबर्ग के ऊपर ही आती है। ऐसे में फेसबुक के लिए अपने सीईओ की सुरक्षा एक बड़ी चिंता का विषय है। एक रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक में सीईओ मार्क जकरबर्ग की सुरक्षा के लिए लगभग 70 करोड़ का सालाना बजट तय किया गया है। मार्क की सुरक्षा की जिम्मेदारी 70 से ज्यादा लोगों की एक टीम को दी गई है। कंपनी में एक बुलेट प्रूफ कॉन्फ्रेंस रूम है, और किसी आपात स्थिति में सीईओ को कंपनी से बाहर निकलने के लिए एक सुरंगनुमा रास्ता भी बनाया गया है।

चौबीस घंटे मिलती है सुरक्षा: मार्क जकरबर्ग की सुरक्षा के लिए 70 सदस्यों की एक सिक्योरिटी टीम है। इस टीम को पूर्व यूएस सीक्रेट सर्विस एजेंट जिल लीवन्स जोन्स लीड कर रहे हैं। टीम के ऊपर मार्क के अलावा फेसबुक के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर शेरिल सैंडबर्ग की सुरक्षा की भी जिम्मेदारी है। मार्क जकरबर्ग और शेरिल सैंडबर्ग को जान से मारने की धमकियां मिलती रहती है। इस कारण कंपनी इन दोनों को 24/7 सुरक्षा प्रदान करती है।

बुलेट प्रूफ कान्फ्रेंस रूम: फेसबुक के कुछ कर्मचारियों ने दावा किया है, कि मार्क के ऑफिस डेस्क के साथ में ही एक बुलैटप्रूफ कॉन्फ्रेंस रूम है, और इसी रूम के अंदर से आपातकालीन रास्ता है। रिपोर्ट्स के अनुसार यह रास्ता फेसबुक के कैलिफोर्निया हेडक्वार्टर की पार्किंग गैराज में खुलता है। सुरक्षा की दृष्टि से कंपनी में मार्क जकरबर्ग के डेस्क के नीचे वाले गैराज में किसी को भी गाड़ी पार्क करने की अनुमति नहीं है। कैलिफोर्निया के बे एरिया में स्थित मार्क के घर के बाहर भी बंदूकों से लैस सिक्युरिटी गार्ड्स तैनात होते हैं।

दिए गए है कोड नेम: सिक्योरिटी के लिहाज से मार्क और सैंडबर्ग के कोड नाम भी डिसाइड किए गए हैं। स्टॉकर्स के लिए BOLO(Be On the Look Outs)टर्म का इस्तेमाल किया जाता है। गार्ड्स को ना सिर्फ बाहर के खतरे से बल्कि मार्क को कंपनी के अंदर किसी भी संभावित खतरे से बचाने के लिए भी तैयार किया गया है। वे किसी भी कंपनी मीटिंग भी मार्क के आसपास मौजूद रहते हैं। किसी बड़े ईवेंट में भी सिक्योरिटी गार्ड्स सादे कपड़ों में मौजूद रहते हैं। हालांकि फेसबुक से बात करने पर उन्होंने इनमें से किसी भी रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी नहीं की है।

Back to top button