उसलापुर में जल्द जीआरपी चौकी की सुविधा

अंकित मिंज

बिलासपुर।

उसलापुर बड़े स्टेशन के रूप में विकसित हो रहा है। यहां ट्रेनों की ठहराव से भीड़ भी बढ़ेगी। इसे देखते हुए यहां जीआरपी चौकी की आवश्कता है। इस सुविधा को उपलब्ध कराने के लिए हमारी प्राथमिकता है। इस संबंध में रेलवे जीएम व डीआरएम को पत्रचार किया गया।

चौकी के लिए रेल प्रशासन ही जगह उपलब्ध कराएगी। इसके अलावा ट्रेनों व स्टेशनों में अपराध नियंत्रण पर काफी जोर दिया जा रहा है। मैदानी अमले को अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं।

ये बातें शासकीय रेल पुलिस जीआरपी की एसपी एसआरपी मिलना कुर्रे ने कहीं। गुरुवार को वे थाने का वार्षिक निरीक्षण करने के लिए पहुंची थीं। इस दौरान पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि जीआरपी में बल की कमी है। यह आंकड़ा हर महीने सेवानिवृत्त के साथ बढ़ता जा रहा है।

इसके बावजूद हमारी कोशिश है कि ट्रेन व स्टेशनों में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम रहे। वर्तमान में 650 पदों के मुकाबले केवल 550 स्टाफ है। बल की कमी दूर करने के लिए मुख्यालय स्तर पर तैयारी चल रही है। नई भर्ती भी हुई। लेकिन वे सभी प्रशिक्षण में हैं।

गांजा तस्करी को लेकर पूछे गए प्रश्न पर उनका कहना था कि यह संगठित अपराध है। जिस पर अंकुश लगाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से काम हो रहा है। सूचना मिलने पर त्वरित कार्रवाई की जाती है। वार्षिक निरीक्षण के दौरान एसआरपी ने मालखानाए उपलब्ध उपकरणए रिकॉर्ड की जांच की गई। पेंडिंग प्रकरणों को लेकर उन्होंने निर्देश दिए।

कोशिश सीसीटीवी से 24 घंटे मानिटरिंग की स्टेशन कहीं का भी हो यदि वहां सीसीटीवी कैमरे लगे हैं तो इसकी मानिटरिंग की कमान आरपीएफ के पास है। यह रेलवे की व्यवस्था है।

हमारी कोशिश है कि जहां.जहां मानिटरिंग कक्ष है वहां से लिंक जीआरपी को मिल जाए। ताकि थाने में एक स्क्रीन लगाकर कैमरे में कैद होने वाली गतिविधियों की मानिटरिंग कर सके। थाने में एक स्क्रीन होने से जीआरपी भी 24 घंटे पैनी नजर रखी सकती है।

Back to top button