फर्जी अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट दी, फिर सही साबित करने के लिए काट दिया नवजात का लिंग, बच्चे की मौत

झारखंड में चिकित्सकों की काली करतूत आई सामने

रांची

झारखंड में चिकित्सकों की काली करतूत सामने आई है। आरोप है कि उन्होंने पैसे के लिए फर्जी रूप से लिंग परीक्षण किया और पेट में बच्ची होने की बात कही। मगर जब प्रसव के बाद बेटा पैदा हुआ तो गलती छुपाने के लिए उसका लिंग ही काट दिया। जिससे बच्चे की मौत हो गई। मां-बाप ने पुलिस में चिकित्सकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। इस घटना को गंभीरता से लेते हुए स्वास्थ्य सचिव ने जांच के साथ चिकित्सकों के खिलाफ कार्रवाई का निर्दश दिया है।

यह घटना चतरा जिले के इटखोरी ब्लॉक की बताई जाती है। नवजात की मौत ओम क्लीनिक पर हुई। मंगलवार की रात आठ महीने की गर्भवती जय प्रकाश नगर निवासी गुड़िया देवी 110 किमी दूर चेकअप के लिए अस्पताल आईं थीं।

पुलिस के मुताबिक चिकित्सकों ने पैसा उगाहने के लिए महिला का फर्जी अल्ट्रासाउंड किया। रिपोर्ट में बेटी होने की बात कही। आरोप है कि जब महिला को प्रसव हुआ तो लड़का पैदा हुआ। कहीं फर्जी अल्ट्रासाउंड होने की बात उजागर न हो, इस पर चिकित्सकों ने नवजात का लिंग ही काट दिया। फिर चिकित्सकों ने मां को बताया कि एक विकृत लड़की पैदा हुई, जो जन्म के कुछ समय बाद मर गई।

Back to top button