छत्तीसगढ़

किसान आगे बढ़े, अभिनव योजनाओं के साथ हाथ थामने सरकार तैयार खड़ी है – बृजमोहन अग्रवाल

जैविक खेती से ही देश का भविष्य सुरक्षित-डॉ हिमांशु द्विवेदी

रायपुर : प्रदेश के कृषि सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि समय के साथ-साथ अब किसान भाइयों को भी आगे बढ़ना पड़ेगा। कृषि की नई तकनीकों को अपनाकर चलना पड़ेगा। हमारी सरकार हर कदम पर अभिनव योजनाओं के साथ उनका हाथ थामने खड़ी है। उन्होंने यह बात कृषि पत्रिका कृषि वर्ल्ड द्वारा आयोजित उत्कृष्ट अन्नदाता सम्मान एवं चौपाल कार्यक्रम में कहीं यह आयोजन इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के सभागार में संपन्न हुआ। समारोह की अध्यक्षता हरिभूमि पत्र समूह के प्रबंध संपादक डॉक्टर हिमांशु द्विवेदी ने की।

इस अवसर पर उपस्थित किसानों को संबोधित करते हुए बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि परंपरागत तरीके से खेती करना लाभदायक नहीं है। इसलिए उद्यानिकी ,दलहन,तिलहन की खेती, पशुपालन, मत्स्य पालन आदि कार्य किसानों को करना चाहिए। छोटा किसान ड्रिप-स्प्रिंकलर,नेटसेट,ग्रीन हाउस,पॉली हाउस बनाकर भी खेती करें। सरकार 70 फीसदी सब्सिडी इस हेतु प्रदान कर रही है। बृजमोहन ने कहा कि कृषि की बेहतरी के लिये हमने कई योजनाएं बनाई है। जैसे कि कोई उन्नत किसान अपनी तरह 100 किसानों को आगे बढ़ने में मदद करेगा उसे सरकार 1 लाख का पुरस्कार प्रदान करेगी।

बृजमोहन ने चिंता जताई कि नई पीढ़ी किसानी से दूर जाती जा रही है। ऐसे में हमें यह प्रयास करना होगा कि वे वापस अपनी मिट्टी की ओर लौटे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के गांव गरीब और किसानों को लेकर पूरी शिद्दत के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य तय किया है। हम सभी उनके इस लक्ष्य की पूर्ति के लिए कार्य कर रहे हैं।

हरिभूमि समाचार पत्र समूह के प्रबंध संपादक डॉक्टर हिमांशु द्विवेदी ने कहा कि भविष्य को बचाना है तो जैविक खेती अपनाना ही होगा। आज हम अनाज के साथ जहर खा रहे है। ऐसा ही चलता रहा तो हम आने वाली पीढ़ी को कैंसर अलावा कुछ नही दे पाएंगे। आज भी कैंसर के मरीजों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। इसका प्रमुख कारण रासायनिक खेती ही है।
उन्होंने कहा कि हम देश को सुरक्षित रखना चाहते है तो परंपरागत कृषि संस्कृति के तहत की जाने वाली खेती को अपनाना होगा । यही सभी के लिए हितकर है। साथ ही उन्होंने कहा कि किसान जैविक खेती की तरफ तेजी से तभी बढ़ेगा जब सरकार भी इस दिशा में उन्हें बेहतर सहूलियत प्रदान करें। इसलिए यह हम सभी की सामूहिक जिम्मेदारी है कि अपने देश व समाज के सुरक्षित भविष्य निर्माण के लिए सार्थक प्रयास करते रहे।

इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति एसके पाटिल, भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष पूनम चंद्राकर,महामंत्री द्वारिकेश पांडे, संचालक कृषि केरकेट्टा,राजाराम त्रिपाठी,नाबार्ड के एजीएम संजय भट्टाचार्य, कृषि वर्ल्ड के संपादक पुष्पकांत शर्मा,शमी इमाम,आशीष खेतान,अपूर्वा राजाराम त्रिपाठी आदि उपस्थित थे।

Tags
jindal