राष्ट्रीय

कृषि कानून के खिलाफ किसानों का भारत बंद, सिंघु बॉर्डर से सिलीगुड़ी तक प्रदर्शन

दिल्ली से लेकर महाराष्ट्र तक बंद कई शहरों में बंद का असर दिखा। कई जगह ट्रेन रोकी गईं और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई।

नई दिल्‍ली: कृषि कानून के खिलाफ किसानों के भारत बंद का मिलाजुला असर देखने को मिली। सिंघु बॉर्डर से सिलीगुड़ी तक प्रदर्शन किया गया और जगह-जगह चक्का जाम से लोग परेशान हुए। दिल्ली से लेकर महाराष्ट्र तक बंद कई शहरों में बंद का असर दिखा। कई जगह ट्रेन रोकी गईं और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई।

बंगाल में लेफ्ट पार्टियों ने चक्का जाम कर किया। जाधवपुर में समर्थक रेल पटरियों पर बैनर पोस्टर लेकर बैठे रहे। लेफ्ट के कार्यकर्ता रेल पटरी पर उतर गए, जिसकी वजह से लोगों को आवाजाही करने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

किसानों ने भीम ऑर्मी को भगाया

प्रयागराज में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ट्रेन को रोक दिया। कार्यकर्ताओं ने बुंदेलखंड एक्सप्रेस ट्रेन को रोककर जमकर नारेबाजी की और ट्रेन की पटरी पर लेट गए। लखनऊ में बंद के चलते प्रशासन ने पहले ही धारा 144 लगा दी थी।

गाजियाबाद में भीम आर्मी के समर्थकों को विरोध का सामना करना पड़ा। भीम आर्मी के लोग यूपी गेट पर किसानों के बीच पहुंचे और धरना प्रदर्शन में शामिल होने लगे, लेकिन किसानों ने भीम आर्मी के लोगों को भगा दिया। किसानों का आरोप है कि भीम आर्मी के समर्थक आंदोलन को भड़काने की कोशिश कर रहे थे।

गुजरात में जगह-जगह आगजनी

भारत बंद का असर वडोदरा-अहदाबाद नेशनल हाइवे पर भी देखने को मिला। प्रदर्शनकारियों ने जम्बुवा के पास टायरों में आग लगा दी, जिसकी वजह से हाइवे का ट्राफिक बुरी प्रभावित हो गया। भारत बंद के समर्थक लोग सड़कों पर जगह-जगह आगजनी करते नजर आए।

गुजरात के नवसारी में कांग्रेसी कार्यकर्ता सुबह 4 बजे एपीएमसी को बंद कराने पहुंच गए। कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने बंद के समर्थन में यहां जमकर हंगामा किया, जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने हालात को सामान्य बनाए रखने के लिए प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया।

बिहार में चक्‍का जाम

कृषि बिल के विरोध में बिहार के हाजीपुर में सुबह से ही चक्का जाम किया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हाई-वे पर टायर जलाकर आगजनी और नारेबाजी की। बिहार के जहानाबाद, खगड़िया, दरभंगा में किसान और महागठबंधन कार्यकर्ता सुबह से सड़कों पर उतरे और कृषि बिल वापस लेने की मांग की।

सपा का मुंबई में प्रदर्शन

समाजवादी पार्टी ने मुंबई में बड़ा विरोध प्रदर्शन किया। एसपी नेता अबु आजमी ने बैल चलाकर किसानों का समर्थन किया। अबु आजमी ने मुंबई की सड़कों पर बैल चलाते हुए केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश की और कहा कि समाजवादी पार्टी किसानों के साथ है।

मुंबई के गोवंडी में एसपी कार्यकर्ताओं ने सड़क को जाम कर दिया। गोवंडी के मानखुर्द हाइवे में एसपी कार्यकर्ता सड़क पर लेट गए और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। किसानों के समर्थन में सड़कों पर उतरे एसपी कार्यकर्ताओं ने किसान कानून वापस लेने की मांग की।

किसानों के समर्थन में नवी मुंबई में बाइक रैली निकाली गई। महाराष्ट्र के बुलढाणा जिले में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोक दी। किसान रेलवे ट्रैक पर उतर गए और मलकापुर स्टेशन पर चेन्नई-अहमदाबाद नवजीवन एक्सप्रेस को रोक दिया गया। प्रदर्शन बढ़ता देख पुलिस ने नेताओं को हिरासत में लिया।

कबड्डी खेलकर विरोध प्रदर्शन

विशाखापत्तनम में किसानों के प्रदर्शन के लिए लेफ्ट के कार्यकर्ता सड़क पर उतर गए। नेशनल हाईवे रोककर लेफ्ट की महिला कार्यकर्ताओं ने कबड्डी खेली। लेफ्ट कार्यकर्ताओं ने सड़क पर डांस भी किया। लेफ्ट के कार्यकर्ता किसानों के भारत बंद के समर्थन में सड़कों पर उतरे और सरकार से कानून वापस लेने की मांग की।

जयपुर में भिड़े NSUI-एबीवीपी कार्यकर्ता

बंद के दौरान जयपुर में जबरदस्त भिड़ंत देखने को मिली। बीजेपी मुख्यलय के सामने NSUI और एबीवीपी के कार्यकर्ता भिड़ गए। एनएसयूआई कार्यकर्ता बीजेपी दफ्तर का घेराव करने पहुंचे, लेकिन इसी बीच झड़प के बाद पत्थरबाजी शुरू हो गई। पुलिस ने सभी कार्यकर्ताओं को खदेड़ दिया।

राजस्थान में कृषि कानून के विरोध में भारत बंद का बड़ा असर देखने को मिला। गहलोत सरकार के मंत्री खुद ही सड़कों पर बंद को सफल बनाने के लिए उतर गए। राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास भारत बंद के समर्थन में खुद ट्रैक्टर पर निकले और खुली दुकानों को बंद करने की अपील की।

भारत बंद के दौरान राजस्थान की सभी 247 मंडिया बंद रहीं। सरकारी बस और ऑटो भी नहीं चले। जगह-जगह अलग-अलग संगठन किसानों के समर्थन में सड़कों पर उतरे और आन्दोलन किया। सड़कों पर बेहद कम गाड़ियां चलती नजर आईं।

पंजाब और हरियाणा में भी हुआ प्रदर्शन

पंजाब और हरियाणा की ओर हर टोल पर किसान बंद को लेकर प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन कर रहे लोगों ने बसों और किसी तरह के वाहनों को नहीं निकलने दिया। चंडीगढ़ में वकीलों ने भी किसानों के समर्थन में नारेबाजी की। किसानों के बंद को समर्थन करते हुए डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में कामकाज को ठप किया गया।

अमृतसर में भी भारत बंद का असर दिखा। सुबह कुछ दुकानें खोली गई थीं, लेकिन बाद में सभी दुकानों के शटर गिरा दिए गए। दुकानें बंद करके किसानों की मांग को दुकानदारों ने सही ठहराया और कहा कि किसानों की मांगे मानी जानी चाहिए।

अमृतसर में NSUI ने ट्रैक्टर मार्च निकाला। NSUI के कार्यकर्ताओं ने ट्रैक्टर, बाइक और जीप पर बैठकर प्रदर्शन किया। हाथ में बैनर पोस्टर लेकर किसानों का समर्थन किया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

भोपाल में सड़क पर उतरे कांग्रेसी

किसानों के भारत बंद के समर्थन में आज भोपाल में कांग्रेसी सड़कों पर उतरे। भोपाल के रोशनपुरा चौराहे पर पूर्व मंत्री अरुण यादव ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचकर दुकानों को बंद कराया। कांग्रेस ने राष्ट्रपति के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button