मानसून के इंतजार में किसान, जुलाई तक इंतजार करना पड़ेगा

मानसून ने राज्य में दस्तक भी दे दी थी लेकिन उसके बाद अचानक मानसून के बादल गायब हो गए और तेज धूप पड़ने लग गई है।

भुवनेश्वर, राज्य में पहले से ही मानसून आने की घोषणा जारी कर दी गई थी जिसके चलते किसानों में काफी उत्साह नजर आ रही थी लेकिन मानसून कमजोर पड़ जाने के कारण गर्मी बहुत तेज हो गई है जिससे की किसानों को खेती करने में परेशानी हो रही है.

कृषि विशेषज्ञों की सलाह है कि किसान जुलाई तक इन्तजार कर ले जिससे की मानसून की स्थिति बन जाएगी. अभी फ़िलहाल किसानों को धान की खेती के लिए जुलाई तक इंतजार करना पड़ेगा क्योंकि धन की खेती के लिए पानी की जरुरत ज्यादा होती है.

मौजूदा हालात में बारिश की कमी के कारण किसानों को जुलाई तक इंतजार करने का सुझाव दिया गया है। साथ ही किसानों से अनुरोध किया गया है कि 145 दिन में अमल वाले धान के बजाय 130 दिन वाले किस्म के बीज बोने पर ध्यान दिया जाए।

यहां यह बताना उचित होगा कि इस साल सामान्य मानसून होने की संभावना जताई गई थी जिसे लेकर किसान खासे उत्साहित थे। जून के दूसरे सप्ताह में मानसून ने राज्य में दस्तक भी दे दी थी लेकिन उसके बाद अचानक मानसून के बादल गायब हो गए और तेज धूप पड़ने लग गई है।

कोट स्वर्ण किस्म के बीज का उपयोग करने वाले किसान 145 दिन में अमल के स्थान पर 130 दिन में अमल देने वाले बीज का प्रयोग करें। थोडी उंचाई वाली जमीन में धान की बजाय अन्य फसल की खेती करना उचित रहेगा। खासकर दाल-दलहन और दूसरी फसलों पर किसानों को ध्यान देना चाहिए।

new jindal advt tree advt
Back to top button