खेल

सात साल के बैन के बाद फिर से टीम में शामिल होंगे तेज गेंदबाज श्रीसंत

केरल क्रिकेट एसोसिएशन (KCA) ने श्रीसंत को टीम में शामिल करने का लिया फैसला

नई दिल्ली: साल 2013 में आइपीएल के एक मैच में स्पॉट फिक्सिंग करने के दोषी पाए जाने के बाद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई द्वारा बैन कर करने के सात साल बाद तेज गेंदबाज शांताकुमारन श्रीसंत एक बार फिर मैदान में दिखेंगे।

केरल क्रिकेट एसोसिएशन (KCA) ने विवादों में रहे तेज गेंदबाज शांताकुमारन श्रीसंत को फिर से राज्य की टीम में शामिल करने का फैसला किया है। 37 साल के एस श्रीसंत का बैन सितंबर में समाप्त हो रहा है और इसके बाद वे राज्य की रणजी क्रिकेट टीम में खेल सकते हैं।

सितंबर 2020 में समाप्त हो जाएगा आजीवन प्रतिबंध

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ ने एस श्रीसंत को लाइफटाइम के लिए क्रिकेट से बैन किया था, लेकिन इसके खिलाफ श्रीसंत ने लड़ाई लड़ी और फिर 2018 में केरल हाई होर्ट ने भी उन पर आजीवन प्रतिबंध लगाने के बीसीसीआइ के फैसले को रद्द कर दिया था, लेकिन 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने उनके अपराध को बरकरार रखा और बीसीसीआइ को सजा की मात्रा कम करने को कहा। बाद में बीसीसीआइ के लोकपाल ने उनके आजीवन प्रतिबंध को कम करके सात साल कर दिया था जो सितंबर 2020 में समाप्त हो जाएगा।

कोच्चि में श्रीसंत ने कहा है, “मुझे मौका देने के लिए मैं वास्तव में केसीए का ऋणी हूं। मैं अपनी फिटनेस के साथ खेल में तूफानी वापसी करूंगा। सभी विवादों पर लगाम लगाने का समय आ गया है।”

हाल ही में केरल क्रिकेट संघ ने पूर्व तेज गेंदबाज टीनू योहानन को टीम का कोच नियुक्त किया था। केसीए के सचिव श्रीतिथ नायर ने कहा कि उनकी वापसी राज्य टीम के लिए एक संपत्ति होगी।

श्रीसंत ने भारत के लिए लंबे समय तक क्रिकेट खेली है। उन्होंने देश के लिए 27 टेस्ट मैचों में 87 विकेट हासिल किए हैं, जबकि वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में उन्होंने 75 विकेट चटकाए हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि एस श्रीसंत साल 2007 में एमएस धौनी की कप्तानी में टी20 वर्ल्ड कप और साल 2011 में वनडे वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रहे हैं। श्रीसंत ने दोनों वर्ल्ड कपों के फाइनल खेले हैं।

Tags
Back to top button