राष्ट्रीय

ब्रेकिंग-कर्ज से परेशान पिता-पुत्र फंदे पर झूले, पत्नी का गला घोटा

लॉकडाउन के कारण उनका काम पूरी तरह बंद हो गया और नया घर लेना तो दूर उनके लिए कर्ज का ब्याज चुकाना भी मुश्किल हो गया और अंत में पूरे परिवार ने सुसाइड करने का फैसला लिया।

नई दिल्ली/जोधपुर: राजस्थान के जोधपुर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है जहाँ राजस्थान के जोधपुर में रहने वाले एक परिवार ने कर्ज से परेशान होकर सुसाइड कर ली। परिवार के तीनों सदस्यों के शव पुलिस ने बरामद कर लिए हैं। इस परिवार में पिता और पुत्र फर्नीचर का काम करते थे, जबकि पत्नी घर का कामकाज देखती थी।

घटना स्थल से पुलिस को 4 मोबाइल मिले

जानकारी के मुताबिक सुसाइड नोट में परिवार के मुखिया ने कर्ज से परेशान होने की बात कही है। एसीपी नीरज शर्मा ने बताया कि बेटे नितिन ने पहले फंदा लगाया फिर पति राजेंद्र सुथार ने पत्नी इंद्रा का गला घोंट मौत के घाट उतारा। पुलिस मौके पर पहुंची तब तक टीवी ऑन था। घर में पुलिस को 4 मोबाइल मिले हैं।

2 मोबाइल नितिन के थे। 1 मोबाइल पिता व 1 मां का था। 2 मोबाइल की स्क्रीन टूटी थी। संदेह है कि सुसाइड से पहले पति-पत्नी के बीच झगड़ा हुआ था। पुलिस ने तीनों के शव एमडीएम अस्पताल की मोर्चरी में रखवाए हैं। शनिवार को तीनों शव का पोस्टमार्टम किया जाएगा।

गुरुवार की रात तक सब कुछ सामान्य था। राजेन्द्र फैक्ट्री से लौटने के बाद लोगों के साथ बैठे थे, पत्नी इंद्रा खाना खाकर रोज की तरह अन्य महिलाओं के साथ पार्क में इवनिंग वॉक कर रहीं थीं। बेटा नितिन भी फैक्ट्री से आने के बाद दोस्तों के साथ घूमने निकला था। रात साढ़े दस बजे नितिन के दोस्त उसे घर के बाहर छोड़कर गए थे। यहां तक सबकुछ ठीक था। रात 11 बजे तीनों घर गए। सबने साथ खाना खाया। रात 12 बजे के बाद नितिन ने पीछे कमरे में फंदा लगाया। फिर राजेन्द्र ने पत्नी का गला घोंटा व खुद भी फंदे से झूल गया।

बता दे, सुथार परिवार में राजेन्द्र पत्नी इंद्रा और बेटे नितिन के साथ किराए से रहते थे। पिता और पुत्र फर्नीचर बनाने का काम करते थे और खुद का घर लेना चाहते थे। पर लॉकडाउन के कारण उनका काम पूरी तरह बंद हो गया और नया घर लेना तो दूर उनके लिए कर्ज का ब्याज चुकाना भी मुश्किल हो गया और अंत में पूरे परिवार ने सुसाइड करने का फैसला लिया।

जानिए क्या लिखा सुसाइड नोट में?

चौहाबो थानाधिकारी गोविंद व्यास ने बताया कि घटना पर मौजूद सुसाइड नोट में राजेंद्र ने कर्ज नहीं चुकाने की बात लिखी है। उन्होंने लिखा है कि वो परेशान हो गया है और कर्ज का ब्याज तक नहीं दे पा रहा है। सुसाइड नोट में महिला का नाम लिखा है। पुलिस को एक डायरी भी मिली है। पुलिस इससे अब जानने में जुटी है कि रुपए किस-किस से लिए और कितने थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button