6 माह की मासूम बेटी को सर्दी की रात में सड़क पर मरने के ल‌िए छोड़ गया बेरहम प‌िता

पुलिस ने बच्ची को चाइल्ड लाइन संस्था के जरिये शेल्टर होम में रखवा दिया है

6 माह की मासूम बेटी को सर्दी की रात में सड़क पर मरने के ल‌िए छोड़ गया बेरहम प‌िता

देश में नारी सशक्तीकरण और बेटियों को बढ़ावा देने के लिए कई अभियान चलाए जा रहे हैं, बावजूद बेटियों को लेकर कुछ लोगों की मानसिकता में कोई फर्क नहीं आ रहा। ऐसा ही एक मामला बृहस्पतिवार दोपहर को थाना सेक्टर-24 में सामने आया।

यहां एक पिता ने अपनी छह माह की बच्ची को मरने के लिए सड़क पर दो गाड़ियों के बीच छोड़ दिया। उक्त व्यक्ति की पहले से दो बेटियां हैं। पुलिस ने बच्ची को चाइल्ड लाइन संस्था के जरिये शेल्टर होम में रखवा दिया है।

पुलिस के अनुसार, सेक्टर-12 के बी ब्लॉक में बृहस्पतिवार दोपहर को छह माह की एक बच्ची लावारिस हालत में सड़क पर दो कारों के बीच में पड़ी मिली थी। बच्ची के साथ एक पर्ची रखी थी, जिस पर लिखा था कि वह अनाथ है।

अब भगवान ही उसका मालिक है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची थाना सेक्टर-24 पुलिस ने बच्ची को अस्पताल पहुंचाया और बच्चों के लिए काम करने वाली संस्था चाइल्ड लाइन को सूचना दी।
अब शेल्टर होम में है बच्ची

संस्था ने बच्ची को अपने सुपुर्द लेकर एक शेल्टर होम में रखवा दिया। शुक्रवार दोपहर को बच्ची के दादा ईश्वर पुलिस व संस्था के पास पहुंचे। उन्होंने बच्ची को ले जाने की बात कही, लेकिन बाल कल्याण अधिकारी ने बच्ची सौंपने की अनुमति नहीं दी। बाल कल्याण समिति ने चाइल्ड लाइन को बच्ची के माता-पिता का पता लगाने के निर्देश दिए हैं।

बच्ची के दादा ईश्वर ने बताया कि उसका बेटा सुजीत और बहू कोंडली (दिल्ली) में रहते हैं। सुजीत एमसीडी में काम करता है। उसकी पहले से दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी भी दादा के पास ही रहती है। ईश्वर ने बताया कि उनकी बेटे से बात नहीं होती है। वह दोनों दिल्ली में अलग रहते हैं।

शुक्रवार सुबह उन्हें पोती के लापता होने का पता चला, तो उन्होंने नोएडा पुलिस से संपर्क किया था। पुलिस के अनुसार, सुजीत का मोबाइल फिलहाल बंद है और वह घर पर नहीं है। उसकी पत्नी को भी उसके बारे में कुछ पता नहीं है। शनिवार को बाल कल्याण समिति के लोग बच्ची के माता-पिता के घर जाकर जांच करेंगे।

advt
Back to top button