पिता ने ले ली अपने बेटे की जान, वजह जानकर आप रह जाएंगे दांग

वडपलानी स्थित मोबाइल फोन के शोरूम में 42 साल के गुजराती व्यवसायी उर्मिल डोलिया ने शनिवार को पहले अपने सात साल के बेटे की और फिर अपनी कलाई काट दी।

वडपलानी स्थित मोबाइल फोन के शोरूम में 42 साल के गुजराती व्यवसायी उर्मिल डोलिया ने शनिवार को पहले अपने सात साल के बेटे की और फिर अपनी कलाई काट दी।

बिजनस में होते घाटे और बीमारी से परेशान एक व्यक्ति ने अपनी जान लेने की कोशिश की। उसकी गैरमौजूदगी में उसके बेटा दुखी न हो, इसलिए उसने बेटे की जिंदगी खत्म करने की कोशिश भी की, लेकिन किस्मत ने अजीब करवट ली। बेटे की जान चली गई और पिता बच गया। पिता के खिलाफ केस दर्ज कर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

अस्पताल ले जाने पर बेटे को मृत घोषित कर दिया गया और उर्मिल को आईसीयू में भर्ती कर दिया गया।

पूछताछ के दौरान उर्मिल ने पुलिस को बताया कि उसने अपने बेटे माधव को इसलिए मार दिया क्योंकि वह उसके बहुत करीब था और वह नहीं चाहता था कि माधव उसके मरने के बाद अकेला हो जाए।

उर्मिल ने शुक्रवार रात अपने शोरूम में काम करने वाले कर्मचारी वसंत से जल्दी घर जाने के लिए कह दिया। उसके बाद वह घर गया और माधव को लेकर शॉपिंग के बहाने घर से ले आया। जब देर रात दोनों घर नहीं पहुंचे तो उर्मिल की पत्नी कलइसल्वी ने वसंत को फोन कर शोरूम में देखने के लिए कहा।

कर्ज बढ़ने पर उसने अपनी जान देने की ठानी। वह माधव से बहुत प्यार करता था इसलिए उसने माधव को भी अपने साथ ले जाने की फैसला किया। पुलिस को शक है कि पारिवारिक विवाद के कारण उर्मिल ने ऐसा फैसला किया। वडपलानी पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए उर्मिल को गिरफ्तार कर लिया है।

जब रात करीब 1:10 बजे वसंत वहां पहुंचा तो उसने पिता और बेटे को खून से लथपथ देखा। उसने तुरंत पुलिस को फोन किया और दोनों को एसआईएमएस अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने माधव को मृत घोषित कर दिया गया।

पूछताछ में कलइसल्वी ने पुलिस को बताया कि उर्मिल चिकन पॉक्स से पीड़ित था और 15 दिन से घर के अंदर ही रह रहा था। पुलिस ने बताया कि उर्मिल की तबीयत की वजह से उसे व्यापार में घाटा हो रहा था।

advt
Back to top button