टेक्नोलॉजीबिज़नेसराष्ट्रीय

लॉन्चिंग के 10 दिन के भीतर ही गूगल प्ले स्टोर में FAU-G की रेटिंग में आई कमी

Android के लिए रिलीज हुए इस गेम को Google Play पर 3.2* की रेटिंग दी जा रही

नई दिल्लीः गूगल प्ले स्टोर पर FAU-G की रेटिंग में 10 दिन के भीतर ही कमी नोटिस की गई है. फिलहाल Android के लिए रिलीज हुए इस गेम को Google Play पर 3.2* की रेटिंग दी जा रही है.

FAU-G ने तोड़ी प्लेयर्स की उम्मीदें

बता दें कि PUBG Mobile पर प्रतिबंध के तुरंत बाद इस गेम की घोषणा हुई थी और इसे आत्मनिर्भर भारत कैंपेन के तहत काफी जोर-शोर से प्रोमोट भी किया गया. गेम का अक्षय कुमार ने सोशल मीडिया पर खूब प्रमोशन किया और उन्होंने कई पोस्ट में इसके डाउनलोडिंग लिंक को भी फैंस के साथ साझा किया. बावजूद इसके अब इसकी रेटिंग में गिरावट आई है. शुरुआत में प्लेयर्स इस गेम को लेकर काफी एक्साइटेड दिखे क्योंकि ये भारत में बना एक एक्शन शूटर गेम (Shooter Game) है. हालांकि, लॉन्च के बाद क्रिटिक्स और प्लेयर्स की उम्मीदें टूटती नजर आ रही हैं. गूगल प्ले स्टोर पर आप इस गेम को लेकर नेगेटिव रिव्यू पढ़ सकते हैं.

FAU-G को लेकर प्लेयर्स का रिएक्शन्स

प्लेयर्स का कहना है कि गेम में सिर्फ हाथा-पाई है न कि गन फाइट. तमाम यूजर्स कह रहे हैं कि उन्होंने इसे पबजी जैसा समझा था लेकिन ये उतना मनोरंजक नहीं है. कई प्लेयर्स को इसकी फाइट पसंद नहीं आ रही है तो तमाम FAU-G की स्टोरी लाइन में कमी निकाल रहे हैं. प्लेयर्स का मानना है कि शुरुआत में उन्हें लगा कि ये फौजी जैसा कि नाम है वैसा गेम होगा लेकिन इसमें ऐसा कुछ भी नहीं दिख रहा, उन्हें ऐसी उम्मीद नहीं थी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, लॉन्च के बाद गेम की रेटिंग 4.7 स्टार थी, अब अचानक कई यूजर्स ने इसे 1 स्टार रेटिंग (FAU-G Rating) दी जिसके चलते कुल रेटिंग में काफी गिरावट आ गई है. Google Play पर FAU-G की रेटिंग हर दिन कम हो रही है.

FAU-G को PUB-G जैसा समझ रहे थे प्लेयर्स गेम

प्लेयर्स ने भले ही फौजी गेम को पबजी का ऑप्शन माना हो लेकिन FAU-G को विकसित करने वाली भारतीय गेमिंग कंपनी nCore Games के सह-संस्थापक विशाल गोंडल ने यह साफ कर दिया था कि FAU-G, PUB-G मोबाइल का विकल्प नहीं है. लेकिन, आत्मनिर्भर भारत कैंपेन और पबजी बैन ने प्लेयर्स के मन में काफी उम्मीदें पैदा कर दी थीं. रिलीज के बाद कई क्रिटिक्स ने भी गेम को फिलहाल के लिए अधूरा बताया और इस पर अधिक काम करने की सलाह दी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button