प्राइवेट अस्पताल के आईसीयू में भर्ती महिला मरीज के नर्सिंगकर्मी द्वारा दुष्कर्म

अस्पताल के नर्स को बताने चाही तो आरोपी ने धमकाकर चुप करा दिया

जयपुर:राजस्थान की राजधानी जयपुर के एक प्राइवेट अस्पताल के आईसीयू में भर्ती महिला मरीज के नर्सिंगकर्मी ने दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया है। नर्सिंगकर्मी ने इस घटना को उस समय अंजाम दिया जब ऑपरेशन के बाद महिला मरीजे के मुंह पर ऑक्सीजन लगा हुआ था और दोनों हाथ बंधे हुए थे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आईसीयू में पहुंचने के बाद नर्सिंगकर्मी ने पहले मरीज को बार-बार पिंच करके देखा कि महिला होश में है या नहीं, और फिर अश्लीलता करने लगा। नर्सिंगकर्मी की इस हरकत की वजह से महिला मरीज रातभर रोती रही। सुबह होने पर जब महीला ने रात की घटना के बारे में अस्पताल के नर्स को बताने चाही तो आरोपी ने धमकाकर चुप करा दिया।

इसके बाद जब महिला मरीज का पति अस्पताल पहुंचा तो उसने पूरा घटनाक्रम लिखकर अपने पति को बताई। तब जाकर मामला सामने आया। घटना को लेकर महिला के पति ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उसके पत्नी की सोमवार को तबीयत खराब होने के बाद वो शहर के शैल्बी हॉस्पिटल लेकर गए थे। जहां डॉक्टरों ने शाम तक महिला का ऑपरेशन करने की बात कही।

रात में करीब 8 बजे आईसीयू में शिफ्ट करने के बाद डॉक्टरों ने कहा कि वो अंदर नहीं जा सकते हैं। इसके बाद वह घर चले गए। रात में महिला का ऑपरेशन हो गया। जब सुबह वो फिर से अस्पताल आए तो महिला ने अपने साथ हुई ज्यादती के बारे में लिखकर बताया क्योंकि ऑक्सीजन लगे होने के कारण वो बोल नहीं सकती थी।

घटना की जांच कर रहे डीसीपी ने कहा कि शिकायत मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस की टीम ने ड्यूटी चार्ट व सीसीटीवी के आधार पर आरोपी की पहचान कर ली है और मामले की जांच भी शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि आरोपी आगरा रोड पर रहता था। लोकेशन के आधार पर दबिश देकर पुलिस ने उसे पकड़ लिया है।

जांच अधिकारी ने कहा कि आईसीयू में दो कमरें हैं, एक में महिला नर्स थी दूसरे में मुख्य आरोपी खुशीराम था। पुलिस ने कहा कि इसमें बाकी लोगों की भूमिका की जांच के लिए सीसीटीवी फुजेट खंगाले जा रहे हैं।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button