अंडर-17 वर्ल्‍डकप के दौरान दुकान बंद रखनी पड़ेंगी, दुकानदारों को मिलेगा मुआवजा

जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में अगले महीने की 7 तारीख से होने वाले फीफा अंडर-17 वर्ल्‍डकप के मैचों की मेजबानी का नुकसान यहां के 200 छोटे दुकानदारों का उठाना पड़ रहा है. स्टेडियम परिसर में अपनी दुकान लगाने वाले दुकानदारों को ग्रेटर कोच्चि विकास प्रधिकरण (जीडीसीए) ने वर्ल्‍डकप के दौरान दुकानें बंद करने को कहा है.केरल हाईकोर्ट ने हालांकि दुकानदारों की सुनते हुए जीडीसीए से उन्हें मुआवाजा देने का आदेश दिया है. स्टेडियम के पास तकरीबन 236 दुकानें हैं. जीडीसीए ने इन दुकान मालिकों से कहा है कि वह 25 सितंबर से 28 अक्टूबर के बीच अपनी दुकाने बंद रखें.

भारत की मेजबानी में छह से 28 अक्टूबर के बीच होने वाले वर्ल्‍डकप के कुछ मैच इस स्टेडियम में खेले जाने हैं. यह स्टेडियम छह लीग मैचों के अलावा एक प्री-क्वार्टर फाइनल और एक क्वार्टर फाइनल मैच की मेजबानी करेगा. जीडीसीए के आदेश के बाद इन सभी दुकानदारों ने अदालत का रुख किया. अदालत ने सभी पक्षों की बात सुनते हुए अपने फैसले में जीडीसीए को इन दुकानदारों को पहली किस्त में 25 लाख रुपए का मुआवजा देने को कहा है और साथ ही इन दुकानों में काम करने वाले कर्मचारियों को भी मुआवजा देने को कहा है.

अदालत ने शहर के जिला न्यायाधीश की अध्यक्षता में दो सदस्यीय समिति बनाने को कहा है. अदालत ने दुकानदारों से इस समिति के समक्ष अपना संभावित नुकसान रखने की बात कही है.दो सदस्यीय समिति कुल मआवजे की रकम पर फैसला लेगी और अगर ज्यादा फंड की जरूरत पड़ेगी, तो जीडीसीए को वह राशि भी देनी होगी.

अदालत ने कहा है कि अगर वह मुआवजे की राशि से दुकानदार संतुष्ट नहीं होते हैं, तो वह सिविल अदालत में अपील कर सकते हैं.

Back to top button