तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत सार्वजनिक स्थानों में धूम्रपान व नियमों के उल्लंघन करने पर 30 दुकानदारों से वसूला जुर्माना

नो स्मोकिंग जोन में धूम्रपान को अपराध घोषित कर दिया गया है।

दुर्ग, 28 सितंबर 2021। जिले के भिलाई और दुर्ग शहर स्थित सरकारी कार्यालयों व सार्वजनिक स्थानों में सिगरेट का सेवन करने पर अब दंडात्‍मक कार्रवाई की जा रही है। नो स्मोकिंग जोन में धूम्रपान को अपराध घोषित कर दिया गया है। पिछले दिनों राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. आर.के. खंडेलवाल के मार्गदर्शन में थाना मोहन नगर टीआई जितेंद्र वर्मा, पुलिस आरक्षक, खाद्य एवं औषधि प्रशासन के कंचन वर्मा, पितांबर साहू व स्वास्थ्य विभाग के काउंसलर ललित साहू की संयुक्त टीम के द्वारा शहर के बस स्टैंड, होटलों व स्कूलों के आसपास के क्षेत्र में जांच कर कार्रवाई की गई। दो दिन तक चले अभियान में 30 दुकानदार व ठेला संचालकों के खिलाफ चालानी कार्रवाई करते हुए 3,000 रुपए वसूले गए।

जिले को धूम्रपान मुक्त बनाने 

जिले को धूम्रपान मुक्त बनाने के लिए प्रशासन ने नोडल अधिकारियों को कार्रवाई का जिम्‍मा सौंप दिया है। कुछ दुकानदारों को समझाइश देकर छोड़ दिया गया। ऐसे ठेले संचालक जो दुकान में लाइटर व माचिस देकर धूम्रपान को बढावा देते हुए लापरवाही बरतने पर शिकंजा कसते हुए कवायद शुरू कर दी गई है।

जिला तंबाकू निषेध प्रकोष्ठ सलाहकार डॉ. सोनल सिंह ने बताया, “भिलाई और दुर्ग शहर के सभी सरकारी व सार्वजनिक संस्थानों में कोटपा एक्ट 2003 लागू किया गया है। कार्रवाई के माध्यम से लोगों में जन जागरुकता लायी जा रही है। कोविड-19 की वजह से लगभग दो साल से अंतरविभागीय संमन्वय की एक टीम के साथ तंबाकू मुक्ति अभियान चलाया जा रहा है।

प्रकोष्ठ सलाहकार डॉ. सिंह ने बताया, अब हर महीने प्रत्येक सप्ताह में दो दिन छापामार कार्रवाई की जाएगी। 29 सितंबर को दुर्ग शहर में विभिन्न चौक-चौराहों, अस्पताल व स्कूल से 100 गज की दूरी को धूम्रपान मुक्त क्षेत्र घोषित कर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया, सार्वजनिक स्थलों पर सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद का सेवन करना प्रतिबंधित है। कोटपा की धारा चार के तहत कोई भी सार्वजनिक स्थान पर धूम्रपान नहीं करेगा।

कोटपा 2003 की धारा 6 (अ) के तहत 18 वर्ष से कम उम्र के नाबालिकों को सिगरेट व अन्य तंबाकू उत्पाद का क्रय व विक्रय की अनुमति नहीं होगी। वहीं धारा 6 (ब) के तहत किसी भी शैक्षणिक संस्थानों के आसपास 100 गज की दूरी की परिधि में तंबाकू उत्पादों की बिक्री प्रतिबंधित रहेगी। लोगों में जागरुकता लाने के लिए पान ठेला व दुकान संचालकों को तंबाकू निषेध पर आधारित पोस्टर चस्पा करने वितरण किया जा रहा है। ताकि लोगों को तंबाकू के दुष्प्रभावों के बारे में जानकारियां हो सके।”

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button