क्राइमछत्तीसगढ़

MSP स्टील एंड पावर लिमिटेड के डायरेक्टर,GM, AGM, फैक्ट्री मैनेजर एवं अन्य के खिलाफ FIR दर्ज-जानें क्या है मामला

14 जुलाई को हुई थी एक मजदूर की करंट लगने से मौत,चक्रधर नगर पुलिस की कार्यवाही

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

रायगढ़। रायगढ़ जिले से एक बड़ी खबर निकल कर आ रहे हैं। यहां जिले के एक बड़े उद्योग एमएसपी स्टील एंड पावर लिमिटेड जामगांव प्रबंधन पर चक्रधर नगर थाना पुलिस ने कई गंभीर धाराओं में अपराध दर्ज किया है। पिछले हफ्ते पहले करंट लगने से वहां एक मजदूर की मौत हो गई थी। जिसकी जांच के बाद चक्रधर नगर पुलिस ने कंपनी के डायरेक्टर कारखाना प्रबंधक एचआर सुरक्षा प्रबंधक एवं अन्य लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 304(2), 201, 34, विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 146,149 के तहत अपराध दर्ज किया है।

रायगढ़ जिले पर कई उद्योग कल कारखाने हैं। जहां हजारों की संख्या में मजदूर काम करते हैं। दुर्घटनाएं भी होती हैं मगर इतनी बड़ी कार्यवाही बहुत ही कम देखने और सुनने को मिलती है।

इस मामले में चक्रधर नगर थाना प्रभारी विवेक पाटले ने बताया कि मृतक रोहित कुमार केवट उम्र 23 वर्ष जांजगीर-चांपा जिले के अंतर्गत थाना बाराद्वार ग्राम भागोडीह का रहने वाला था। वह कंपनी के स्लेग् क्रशर यूनिट जिसका ठेका सुमित इंटरनेशनल कंपनी को दिया गया था। मृतक उसी मे मज़दूरी करता था। जिसके रहने व्यवस्था कंपनी के एचआर के अधिकारी राकेश त्रिपाठी द्वारा एसएमएस लेबर कॉलोनी के हॉल मे कराई गई थी।

14 जुलाई को मृतक नाइट शिफ्ट की ड्यूटी करके लौटा था। जहां वह अपनी शर्ट उतार कर हॉल में लगे जीआई वायर पर टांगने के लिए गया। जीआई वायर में करंट प्रवाहित हो रही थी। जिसके कारण उसके दोनों हाथ चिपक गए। उसकी चीख पुकार सुनने के बाद आसपास के लोगों ने डंडा मारकर उसे छुड़ाया। जिससे वह जमीन में गिर गया और बेहोश हो गया। जिसे जिला अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

एमएसपी स्टील एण्ड पावर प्लांट के HR विभाग

घटना दिनांक 14 जुलाई की सुबह 08:30 बजे घटना की जानकारी होने पर एमएसपी स्टील एण्ड पावर प्लांट के HR विभाग के अधिकारी राकेश त्रिपाठी, सेफ्टी अधिकारी फिरोज खान, रमाशकर सिंह, कपनी का सुरक्षा अधिकारी बीके. सरकार वगेरह मोके पर आ गये। मौके पर उपस्थित उपरोक्त अधिकारियों ने इलेक्ट्रिक विभाग के इंजीनियर जीवन पटेल एबं उसके अधिनस्थ सहकर्मी इलेक्टीशियन गजानद प्रधान, सन्यासी. नितेश कुमार पटेल से पावर सप्लाई चालूकर घटना स्थल को चेक करवाया गया।

उस वक्त हाल के छत में लगे लोहे के स्ट्रक्चर पाईप, दिवाल एवं वह तार जिसमे रोहित चिपक गया था। उसमे करेंट मौजूद था।
हाल में लगे MCB से दो तारों से कनेक्शन रसोई घर में लिया गया था। जिसमें से एक वायर छत में लगे लोहे के स्टेक्चर के पाईप में बंधा था और वहीँ तार डैमेज होने से विद्युत करेंट लोहे के पाईप के सहारे दोनों हाल में लगे स्टेक्चर के पाईपों एवं दिवाल, GI तार में करंट प्रवाहित हो गया था।

जिसे MCB एबं लोहे के स्टेक्चर पाईप से इलेक्टिक विभाग के इजिनियर जीवन पटेल, इलेवट्रेशियन गजानंद पटेल से पृथक करवाया गया। जिससे विद्युत करेंट की दिवाल तया GI तार में बंद हो गया । उस तार को आरके. त्रिपाठी, फिरोज खान तथा मोके पर उपस्थित अधिकारियों ने साक्ष्य छुपाने के दृष्टिकोण से प्लाट के इलेकट्रीक शाखा के जीवन पटेल के माध्यम से स्टोर रूम में रखवा दिया।

सम्पूर्ण मर्ग जांच पर कारखाना प्रबंधक वीके. सिंह एलआर. प्रभारी राकेश कुमार सिंह तया जीएम. इलेवट्रीक्ल रमाशंकर सिंह एवं MSP स्टील एण्ड पावर लिमि. जामगांव के निदेशक का कृत्य विद्युत आपूर्ति एबं सुरक्षा के उपाय विनियम 2003 नये नियम 2010 के नियम 5, 12, 14, 16. 26, 28 35(2). 42 का उल्लंघन किया गया एवं आरोपियों द्वारा जानते हुए भी असुरक्षित विद्युत वायरिंग सुविधा उपलब्ध कराकर विद्युत का इस्तेमाल करवाया जा रहा था।

MSP स्टील एण्ड पावर के अधिकारी

आरोपीगण द्वारा जान बूझकर घोर उपेक्षा, घोर लापरवाही की वजह से रोहित कुमार केवट विद्युत करेंट लगने से मृत्यु हो जाना तया साक्ष्य छिपाने की दृष्टि से MSP स्टील एण्ड पावर के अधिकारी राकेश त्रिपाठी, फिरोज खान. रमाशंकर सिंह, पीके. सरकार, द्वारा आदेश देकर इलेकट्रीक शाखा के इर्जीनियर जीवन पटेल एवं उसके अधिनस्थ सहकर्मी इलेवट्रीशियन गजानंद प्रधान. सन्यासी, निवेश कुमार पटेल से घटना स्थल पर लगी तार जिससे विद्युत प्रवाहित होकर विद्युत लेबर क्वाटर के दिवाल, लोहे के स्टेक्चर, जीआई. तार में फैल गया था, उस तार को निकालकर इलेकट्रीक शाखा के स्टोर रूम में छिपाकर रखवाना पाया गया।

संपूर्ण जांच पर कारखाना प्रबंधक वीके. सिंह, HR प्रभारी राकेश कुमार सिंह, GM इलेवट्रीक्ल रमाशंकर सिंह तथा AGM एचआर राकेश त्रिपाठी. सामान्य सुरक्षा अधिकारी फिरोज अहमद, सुरक्षा अधिकारी पी.के. सरकार एबं MSP स्टील एण्ड पावर लिमि. जाममांव कम्पनी के निदेशक व अन्य का वृज्य अपराध धारा 304 (02), 201, 34 भादवि. एवं भारतीय विद्युत अधिनियम कीं धारा 146. 149(1 ) (2) के अंतर्गत पाये जाने से अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button