टेक्नोलॉजी

मोबाइल ऐप के जरिए चलती ट्रेन में होगा एफआईआर दर्ज

जीरो एफआईआर' वह एफआईआर होती जो घटनास्थल से अलग कहीं भी दर्ज कराई जा सकती है

नई दिल्ली। Indian Railways ने अपने यात्रियों की सुरक्षा के लिए कदम उठाते हुए एक अहम फैसला लिया है। जल्द ही रेलवे यात्री मोबाइल ऐप के जरिए एफआईआर दर्ज करा सकेंगे।

यह एफआईआर ‘जीरो एफआईआर’ कहलाएगी। ‘जीरो एफआईआर’ वह एफआईआर होती जो घटनास्थल से अलग कहीं भी दर्ज कराई जा सकती है और बाद में इसे संबंधित पुलिस स्टेशन में ट्रांसफर किया जा सकता है।

अगर रेलवे में यात्रा करने के दौरान आपके साथ कोई क्राइम होता है तो बहुत जल्द ही आप एक मोबाइल ऐप से जीरो एफआईआर दर्ज करा सकेंगे। FIR दर्ज होने के बाद ट्रेन में मौजूद आरपीएफ इसकी जांच करेगी।

इस तरीके का एक पायलट प्रॉजेक्ट मध्य प्रदेश में चलाया जा रहा है और जल्द ही इसे देश भर में शुरू किया जाएगा। इस बारे में आरपीएफ के डीजी अरुण कुमार ने कहा, ‘अब यात्रियों को अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए अगले स्टेशन तक का वेट नहीं करना पड़ेगा।

यात्री अब खुद ही मोबाइल ऐप के माध्यम से शिकायत दर्ज करा सकते हैं और आरपीएफ पीड़ित की मदद के लिए तुरंत मौके पर पहुंचेगी। इस शिकायत को जीरो एफआईआर मानकर तुरंत घटना की जांच शुरू की जाएगी।’

हाल ही में एक घटना हुई थी जिसमें रेलवे यात्री को अपनी शिकायत दर्ज करानी थी, लेकिन उसे पहले टीटी के द्वारा दिए गए एक शिकायत फॉर्म को भरना पड़ा। इतना ही नहीं फॉर्म भरने के बाद उसे आरपीएफ या जीआरपी के पास जमा कराने के लिए यात्री को अगले स्टेशन तक का इंतजार करना पड़ा था।

हालांकि यात्रियों को शिकायत के लिए अभी भी यह फॉर्म भरना पड़ेगा, लेकिन इसमें खास बात यह है कि इसे अब एफआईआर माना जाएगा।

Tags
Back to top button