पटना : चलती ट्रेन में फायरिंग, 2 महिला यात्री घायल

पटना में अपराधियों ने चलती हुई पटना-झाझा मेमू पैंसेजर में ताबड़तोड़ फायरिंग कर दहशत फैला दी। फिल्मी अंदाज में ट्रेन में सवार पांच-छह बदमाशों ने सालिमपुर सम्मतपुर के भूषण हत्याकांड के मुख्य गवाह सुनील प्रसाद (45) को लक्ष्य कर करीब 12 राउंड गोलियां दागीं। ताबड़तोड़ फायरिंग में सुनील के कमर के नीचे दो गोली लगी जबकि पास में बैठीं दो महिला यात्री भी गोली लगने से जख्मी हो गईं। जमीन विवाद को लेकर चली आ रही पुरानी रंजिश व हत्याकांड के मुख्य गवाह सुनील को अपराधी रास्ते से हटाना चाहते थे। घायलों में सुनील प्रसाद के अलावा वैशाली जिले के जुड़ावनपुर थाना क्षेत्र के मोहनपुर निवासी प्रमोद दास की पत्नी ललिता देवी व सलीमपुर थाना क्षेत्र के हिदायतपुर निवासी देवकी साव की पत्नी दरपनिया देवी शामिल हैं।

घटना के तीनों घायलों को एनएमसीएच में भर्ती कराया गया है। वारदात के बाद बदमाश खुसरूपुर स्टेशन पर ट्रेन के धीमी होते ही उतर कर भाग गए। जांच के दौरान जीआरपी ने दो खोखे भी बरामद किए। प्रारंभिक जांच में जमीनी विवाद ही वारदात की मुख्य वजह बतायी जा रही है। हमलावर पूर्व में घायल सुनील प्रसाद के परिवार के ही मारे गए सदस्य भूषण यादव हत्याकांड के नामजद आरोपित बताए जा रहे हैं। जीआरपी मामले की अलग- अलग पहलुओं की जांच की जा रही है। बताया गया है कि जख्मी सुनील प्रसाद पटना के सोनालिका ट्रैक्टर एजेंसी में चालक है। रोज की तरह वह मंझौली हॉल्ट पर झाझा-पटना मेमू में सवार होकर पटना के लिए चला। दिन में 11.22 बजे मेमू मंझौली हॉल्ट से खुली। अगला ठहराव खुसरूपुर स्टेशन था। मंझौली हॉल्ट से खुसरूपुर स्टेशन की दूरी करीब चार किमी है। ट्रेन खुलने के करीब चार-पांच मिनट बाद यानी 11.27 बजे पहले से ही मेमू में सवार पांच-छह की संख्या में रहे अपराधियों ने कमर से पिस्टल निकाली और फिल्मी अंदाज में सुनील प्रसाद को लक्ष्य कर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। गोली लगने से सुनील प्रसाद और पास में बैठी दो महिला यात्री जख्मी हो गईं। गोलीबारी के बीच चलती ट्रेन में मची अफरातफरी के दौरान खुसरूपुर स्टेशन के प्लेटफार्म-2 पर ट्रेन के धीमी होते ही हमलावर उतरकर भाग निकले।

दानापुर रेल मंडल के खुसरूपुर स्टेशन के समीप झाझा से चलकर पटना आने वाली झाझा-पटना मेमू ट्रेन में गोलीबारी की घटना से बोगी में हलचल मच गई। यात्रियों में अफरातफरी मचने से लोग इधर-उधर भागने लगे। यात्री खिड़की से कूदने के साथ-साथ गेट से भी कूदने लगे। ट्रेन के रुकने के बाद भगदड़-सी मच गई। वहीं, चंद मिनट में खुसरूपुर जीआरपी मौके पर पहुंची और घायल व्यक्ति को अस्पताल भिजवाया गया। पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि झाझा-पटना मेमू पैसेंजर ट्रेन एक 11:27 से 11:43 बजे तक घटनास्थल पर रुकी रही। यानी ट्रेन 16 मिनट तक घटनास्थल पर रुकी रही। हालांकि, ट्रेन अपने निर्धारित समय पर पटना जंक्शन पहुंच गई। इस ट्रेन के अलावा कोई दूसरी ट्रेन न तो देर हुई न ही रेलवे के परिचालन पर असर पड़ा है।

मंझौली हॉल्ट से मेमू के खुलने पर ट्रेन में सवार यात्री बातों में मशगूल थे। इसी बीच करीब 11 बजकर 27 मिनट पर पीछे से बोगी नंबर चार में अचानक गोलियों के तड़तड़ाने से यात्रियों में भगदड़ मच गई। अपनी जान बचाने के लिए ट्रेन में सवार कुछ यात्री सीट के नीचे छिप गए तो ज्यादातर यात्री आगे की बोगी की ओर भागने लगे। ऐसे में ट्रेन में लोगों की चीख- पुकार मच गई। यात्री भागो-भागो व घायल कराहते हुए बचाओ-बचाओ की गुहार लगाने लगे। महिलाओं और बच्चों की रोने की आवाज गूंजने लगी। इसी बीच गाड़ी खुसरूपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर-2 पर रुकी तो बदमाश ट्रेन से कूद कर भाग निकले। वहीं अधिकतर यात्री भी कूद कर भाग खड़े हुए। कुछ लोग ट्रेन से ऐसे भागे जैसे उनके पीछे मौत का साया हो।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button