छत्तीसगढ़

प्रथम महिला ने किया चित्रकला प्रदर्शनी का शुभारंभ

रायपुर.प्रथम महिला श्रीमती बृजपाल टंडन ने आज यहां युनुस आर्ट गैलरी द्वारा राजधानी रायपुर के घासीदास संग्रहालय में आयोजित तीन दिवसीय चित्रकला प्रदर्शनी का विधिवत शुभारंभ किया।

श्रीमती टंडन ने कहा कि किसी भी कार्य को यदि दिल से किया जाए तो वह कार्य ही पूजा हो जाती है। इसी प्रकार समर्पित होकर कार्य करने से हमें आनंद की अनुभूति होती है। उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति के माध्यमों में चित्रकला सबसे अच्छे तरीकों में से एक है। यह सरल और सहज ही है। मन और दिल की गहराईयों तक जो हम सोचते हैं उसे चित्रकला के माध्यम से अभिव्यक्त करते हैं, इसलिए यह हमारे जीवन से जुड़ी होती है। एक चित्रकार अपने आस-पास के घटनाक्रम से जुड़ता है और जो बात उसके दिल को छू जाती है, वह ऐसी घटनाओं को कैनवास पर उतारता है। कई कठिन विषयवस्तु को चित्रों के माध्यम से सरलता से समझाया जाता है। अजंता और ऐलोरा गुफाओं में ऐसे अनेक चित्र आज भी सुरक्षित हैं, जिससे उस समय के जीवन की झलक देखने को मिलती है।

आधुनिक युग में चित्रकला की ओर रूझान कम होते जा रहा है। लेकिन आज भी हमारे बीच अनेक लोग हैं जो इस कला को सीखना चाहते हैं लेकिन उन्हें अपनी प्रतिभा को निखारने के लिए अवसर नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में शेख युनुस का यह एक सराहनीय प्रयास कहा जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी संस्था द्वारा महिलाओं और बुजुर्गों को लक्षित कर प्रशिक्षण दिया जा रहा है, यह भी खुशी की बात है।

कार्यक्रम को इन्दिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय, खैरागढ़ की कुलपति डॉ. मांडवी सिंह ने भी संबोधित किया।

इस अवसर पर बड़ी संख्या में कलाप्रेमी एवं संस्था से जुड़े चित्रकार उपस्थित थे।

Tags
Back to top button