छत्तीसगढ़

शासन के मछुआ नीति का होगा शत् प्रतिशत क्रियान्वयन : निषाद

मछुआ कृषक सम्मेलन में शामिल हुए मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा
संवाददाता : शिव कुमार चौरसिया

बलरामपुर 13 जनवरी 2021: सरगुजा संभाग के प्रवास में आये छत्तीसगढ मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष एम.आर. निषाद 12 जनवरी को बलरामपुर-रामानुजगंज जिला पहुंचकर मछुआ कृषक सम्मेलन में शामिल हुए।

छत्तीसगढ़ मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष ने मछुआ सम्मेलन में समाज के पदाधिकारियों से मुलाकात कर मछुआ समाज के समस्याओं, मांगों सहित मछुआ कल्याण बोर्ड के उद्देश्यों के अंतर्गत मछुआरों को शासन के कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित करने एवं मछुआरा वर्ग के कल्याण तथा विकास के संबंध में चर्चा की। उन्होंने कहा कि मछुआ समाज का मछली पालन पैतृक व्यवसाय है इसका मछुआ समाज को अधिकार मिलना चाहिए।

मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष निषाद ने कहा कि छत्तीसगढ़ शासन द्वारा मछुआरों के हित में जो नीति बना है उसे पूरा करने के उद्देश्य से कार्य किया जा रहा है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि मछली पालन नीति में जो भी कमी है मछुआ समाज के पदाधिकारियों से चर्चा कर उसका निराकरण किया जाएगा तथा मछुआ वर्ग के प्रत्येक व्यक्ति को इसका लाभ मिले एवं शासन के मछुआ नीति का शत् प्रतिशत क्रियान्वयन हो यह सुनिश्चित किया जाएगा।

इस दौरान उन्होंने अधिकारियों को मछुआरों के कल्याण की दिशा में हर संभव मदद करने हेतु निर्देशित किया। सम्मेलन में मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष एम.आर. निषाद के द्वारा 31 मत्स्य पालकों को जाल का वितरण भी किया गया। मछुआ सम्मेलन कार्यक्रम में हरीशंकर निषाद, सहायक संचालक मत्स्य पालन राजेन्द्र सिंह, विभाग के अधिकारी-कर्मचारी सहित मत्स्य पालक उपस्थित थे।

Tags
Back to top button