खेल

टीम इंडिया की हार के पांच बड़े कारण, फील्डिंग रही मैच का सबसे खराब पक्ष

वेस्टइंडीज ने मैच की बेहतर तैयारी की इसमें कोई शक नहीं

नई दिल्ली: शुरू से ही तिरुवनंतपुरम में टीम इंडिया के पक्ष में सब कुछ ठीक नहीं रहा और मेहमानों से हर विभाग में पिछड़ने वाली टीम ने आसानी से मैच गंवा दिया. इस मैच में टीम इंडिया की हार के पांच बड़े कारण रहे.

1. अति आत्मविश्वास वाली बल्लेबाजी

जब टॉस हार कर टीम इंडिया ने बल्लेबाजी की तो कहीं से भी यह नहीं लगा कि टीम इंडिया ने यहां बैटिंग करने की कोई तैयारी की है. भारतीय बल्लेबाज शुरुआती ओवरों में जिस तरह से संघर्ष करते दिखे, उससे लगा कि पिच में ही लो स्कोरिंग है, लेकिन विंडीज बल्लेबाजों इसे भी गलत साबित कर दिया. रोहित, केएल, विराट, अय्यर, जडेजा तक कोई भी बल्लेबाज वेस्टइंडीज के गेंदबाजों के सही तरीके से नहीं पढ़ सका और टीम इंडिया बड़ा स्कोर खड़ा करने में नाकाम रही.

2. एक बार फिर लचर फील्डिंग

मैच का सबसे खराब पक्ष टीम इंडिया की फील्डिंग रही. दो कैच छूटने से टीम का मनोबल गिरता दिखाई दिया और गेंदबाज तक दिशाहीन साबित हुए. लुइस और सिमंस को पांचवे ओवर में मिले जीवन दान का खामियाजा टीम इंडिया ने मैच से चुकाया. यही नहीं एक बार फिर ओवरथ्रो, खराब फिल्डिंग पूरी पारी में दिखी. टीम इंडिया का जोश तो 10 ओवर तक ही काफूर हो चुका था.

3. स्पिन गेंदबाजी रही पूरी तरह से फेल

वॉशिंगटन सुंदर ने अपने पहले ओवर में प्रभावित किया, लेकिन उसके बाद लुइस ने उनकी खूब खबर ली. यह हाल चहल और जडेजा का भी हुआ सिमंस हेटमायर और पूरन ने भी सही स्पिनर्स की कलई खोल कर रख दी. सुंदर ने चार ओवर में 26 रन दिए. चहल ने 3 ओवर में 36 रन और जडेजा ने दो ओवर में 22 रन लुटाए.

4. तेज गेंदबाज भी साबित हुए उन्नीस

टीम के पेसर्स भी दिशाहीन होते दिखे. दीपक चाहर और भुवी की गेंदों से भी सटीकता गायब हो गई. भुवी ने चार ओवर में 36 रन दिए. चाहर ने 3.3 ओवर में 25 रन तो शिवम दुबे ने दो ओवर में 18 रन दिए. जहां वेस्टइंडीज के पेसर्स ने यार्कर और गति परिवर्तन का बेहतर इस्तेमाल किया, वहीं भारतीय गेंदबाजों कभी भी विंडीज बल्लेबाजों को परेशान करते नहीं दिखे.

5. नहीं दिखी कोई रणनीति या तैयारी

वेस्टइंडीज ने मैच की बेहतर तैयारी की इसमें कोई शक नहीं. उन्होंने गेंदबाजी में बेहतर गति में परिवर्तन किया. फील्डिंग भी ठीक रही और उन्हें भारतीय गेंदबाजों का पढ़ने में कोई परेशानी नहीं हुई. वहीं टीम इंडिया के बल्लेबाज वेस्टइंडीज गेंदबाजों के पढ़ने में पूरी तरह से नाकाम रहे. भारतीय गेंदबाज मेहमान टीम के बल्लेबाजों को गेंद करने की सही जगह ही ढूंढते रह गए.

Tags
Back to top button