गोमती नगर स्थित टेंडर पाम अस्पताल में कोरोना से संक्रमित पांच मरीजों की मौत

गोमती नगर स्थित टेंडर पाम अस्पताल में कोरोना से संक्रमित अत्यधिक गंभीर मरीजों का भी इलाज चल रहा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमती नगर स्थित टेंडर पाम अस्पताल में कोरोना से संक्रमित पांच मरीजों की जान चली गई. इसकी जानकारी खुद अस्पताल प्रशासन की ओर से देते हुए कहा गया है कि कोई भी मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है.

गोमती नगर स्थित टेंडर पाम अस्पताल में कोरोना से संक्रमित अत्यधिक गंभीर मरीजों का भी इलाज चल रहा है. साफ शब्दों में कहा जाए, तो हॉस्पिटल में एल-2 और एल-3 केयर सेंटर भी है. अस्पताल में मरीजों की भीड़ लगी हुई है.

वहीं बीते दिन हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी रही, जिसके कुछ समय बाद ही ऑक्सीजन सिलेंडर अस्पताल में पहुंचा दिए गए. इस बीच आज यहां कोरोना संक्रमण से पांच मरीजों की मौत हो गई, जिसमें चार महिला और एक पुरुष मरीज शामिल है.

इन मरीजों की मौत के बाद अफवाह ये उठने लगी कि ऑक्सीजन की कमी से मरीजों की जान गई है. वहीं इस मामले पर हॉस्पिटल प्रशासन की ओर से बयान जारी करते हुए स्पष्ट किया गया कि ऑक्सीजन की कमी से किसी भी मरीज की जान नहीं गई.

हॉस्पिटल प्रशासन की ओर से बताया गया है कि अस्पताल में गंभीर और अतिगंभीर दोनों ही प्रकार के कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है. डॉक्टरों की टीम पूरी मेहनत के साथ काम कर रही है, ऐसे में दुर्भाग्य रहा, कि इन मरीजों को हम बचा नहीं सके. लेकिन ये कहना गलत है कि इन मरीजों की जान ऑक्सीजन की कमी की वजह से गई है.

अस्पताल प्रशासन ने स्पष्ट कहा कि प्रशासन और सरकार का कोरोना मरीजों के उपचार के लिए पूरा सहयोग मिल रहा है. इसके बाद भी भ्रामक खबरें फैलाई जा रही हैं, जो गलत हैं. बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण बेहद तेजी से पांव पसार रहा है. यहां एक दिन में मरीजों की संख्या 30 हजार से पार हो गई है.

पिछले 24 घंटे में यूपी में कोरोना संक्रमण के 35 हजार 156 नए केस सामने आए, वहीं 298 लोगों ने संक्रमण की वजह से अपनी जान गंवा दी. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में कुल एक्टिव केसों की संख्या 3,09,237 पहुंच गई है. वहीं राहत की खबर ये भी है कि यहां पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमित 25,613 लोगों को छुट्टी देकर घर भेजा गया.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button