अंतर्राष्ट्रीय

पांच जजों के पैनल ने नवाज शरीफ को माना भ्रष्‍ट, 540 पन्‍नों में लिखा गया फैसला

शरीफ की बर्खास्तगी का फैसला सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की एक खंडपीठ ने किया। पनामा पेपर लीक मामले में पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को भ्रष्ट करार देकर पद से बर्खास्त कर दिया है।

इन जजों में जस्टिस आसिफ सईद खान खोसा, जस्टिस गुलजार अहमद, जस्टिस एजाज अफजल खान, जस्टिस इजाज उल अहसन और जस्टिस शेख अजमत सईद शामिल थे। इन जजों ने 540 पन्नों में फैसला लिखा है।

इसी साल अप्रैल में इन जजों के बीच फैसले को लेकर मत विभेद सामने आए थे। तब तीन जजों ने नवाज शरीफ के खिलाफ जबकि दो जजों ने शरीफ के पक्ष में अपनी बात रखी थी।

जस्टिस आसिफ सईद खान खोसा

जस्टिस खोसा साल 2010 में सुप्रीम कोर्ट में जज नियुक्त किए गए थे। ये पनामा पेपर लीक मामले की सुनवाई करनेवाली खंडपीठ की अध्यक्षता कर रहे थे।

इन्होंने 18 वर्षों के दौरान करीब 18 हजार मामलों की सुनवाई की है। अप्रैल में जस्टिस खोसा नवाज शरीफ को बर्खास्त करने के खिलाफ थे।

Tags
Back to top button