शौच मुक्त होने का दावा फ्लॉप,आधी आबादी जगल में शौच जाने को मजबूर

कई जगह शौचालय के दरवाजे उखड़ गए है, तो कही दरवाजे ही नही लगे

गरियाबंद। छुरा विकासखंड के साजापाली ग्राम पंचायत में स्वच्छ भारत मिशन के तहत बने शौचालय उपयोग में लाये जाने से पहले ही जर्जर व बदहाल है।

हालाकि केंद्र व राज्य सरकार के द्वारा सर्व प्राथमिकता के आधार पे चलाए गए अभियान के तहत जिले के प्रत्येक विकासखण्ड खुले में शौच मुक्त होने के दावे के साथ बड़े ही हर्षोउल्लास पूर्ण वातावरण में ओडीएफ उत्सव भी मनाया जा चूका है।

मौके पर साजापाली पहुंचे प्रतिनिधि के द्वारा ग्रामीणों से जानकारी लिए जाने पर मामला उजागर हुआ।

ग्रामीणों का कहना है कि कई जगह शौचालय के दरवाजे उखड़ गए है, तो कही दरवाजे ही नही लगे हैं, जाहिर सी बात है कि शौचालयों का ये हाल है तो गांव की आधी आबादी खुले में शौच करने जंगलो में जान जोखिम में डालकर जाने मजबूर व बेबस है।

शौचालय का पाइप लाइन टूटा

गुणवत्ता विहीन व घटिया सामग्री से बने जर्जर व आधा अधूरे उपयोग विहीन शौचालय को लेकर ग्राम पंचायत साजापाली के महिला हितग्राही सुलोचना बाई का कहना है कि सरपंच ने ऐसा शौचालय बनवा कर दिया है जिसका पाइप लाइन ही टूट गया है मजबूरन अब सुलोचना का पूरा परिवार जंगल में खुले में शौच जाने को मजबूर है

जनप्रतिनिधी मंचो के माध्यम से हुए सम्मानित

जिले के अधिकारियों का दावा है कि जिला खुले में शौचमुक्त हो चुका है, जानकारी के अनुसार तो कई जनप्रतिनिधियो को मंचो के माध्यम से सम्मानित भी किया जा चुका है।

ग्राम साजापाली के नवाडीह निवासी विष्णु का घर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बना तो जरूर है पर विष्णु के घर में तो शौचालय ही बना जब की आवाज़ के साथ एक शौचालय बनाने जरूर है मजबूरन पूरा परिवार जंगल में खुले में शौच जाते है फिर भी साजापाली खुले में शौचमुक्त है।

महिला पंच के घर मे शौचालयों में नहीं लगे दरवाजे

शौचमुक्त होने के दावों का परत दर परत पोल खुलने में देर नही लगी हैरानी की बात है कि नावाडीह वार्ड की महिला पंच के घर मे शौचालयों में तो दरवाजा ही नही लगे है फिर भी छुरा विकासखण्ड खुले में शौचमुक्त हो गया।

शौचालय में जड़े ताले

ग्राम जहां के शौचालय में ताले जड़ दिए गए है तो कही दरवाजे ही नही है फिर भी जिला गरियाबंद खुले में शौचमुक्त हो चुका है। मिली जानकारी के मुताबिक केएस नागेश मुख्य कार्य पालन अधिकारी थोड़ा भी नही कतराएं ये कहने में की छुरा जनपद पंचायत खुले में शौचमुक्त हो चुका है।

जब साहब को साजापाली के बारे में बताए तो साहब को शिकायत का इंतजार है। फिर भी छुरा विकासखण्ड खुले में शौचमुक्त हो चुका है ।

Back to top button