शोएब साहब के इशारे पर चल रहा रायगढ़ का फ्लाइंग आरटीओ…

आरटीओ उड़नदस्ता विभाग में रायपुर और रायगढ़ में बैठे खान बंधु मिलकर विभाग को काफी ऊंचाइयों पर उड़ा रहे हैं।

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

आरटीओ उड़नदस्ता विभाग में रायपुर और रायगढ़ में बैठे खान बंधु मिलकर विभाग को काफी ऊंचाइयों पर उड़ा रहे हैं। जो जानकारी सामने आ रही है उसके मुताबिक रायगढ़ से रायपुर तक बने इस विभागीय सांठगांठ का बुरा असर वाहन मालिकों और चालकों पर पड़ रहा है। उन्हें बेवजह अवैध वसूली का शिकार होना पड़ रहा है। वहीं दूसरी ओर नियम कानून को ताक पर रखकर सड़कों पर दौड़ने वाली गाड़ियों के मालिक चैन की बंसी बजा रहे हैं।

आखिर कौन है शोएब साहब और इनका क्या रोल है

विभागीय गलियारे में जो चर्चा है उसकी माने तो रायगढ़ से वसूली कर पैसा रायपुर पहुंचाया जा रहा है , जिसके दम पर रायगढ़ में बेखौफ होकर काम किया जा रहा है। कुछ वाहन स्वामियों एवं चालकों ने नाम सार्वजनिक न करने के शर्त पर बताया कि उनकी ओर से महीने का बंधा हुआ भुगतान देने के बावजूद उन पर खानापूर्ति करने जबरन कार्यवाही भी की जा रही जबकि कुछ बड़े ट्रांसपोर्टर की गाड़ियों के पेपर दुरुस्त नहीं होने के बावजूद उन पर आंच नहीं आ रही है।

आ गए फिर वही पुराने दिन वापस

आरटीओ उड़नदस्ता के पुराने दिन वापस आ चुके हैं । भारी वाहनों से इन दिनों जमकर वसूली की चर्चा है। रायगढ़ जिले में कोल एवं स्टील ट्रांसपोर्टिंग में लगे भारी वाहनों सहित अन्य वाहनों की आवाजाही औद्योगिक जिला होने के नाते अन्य जिलों की अपेक्षा ज्यादा है । सबसे प्रमुख बात यह है कि रायगढ़ में जहां जांजगीर जशपुर और सरगुजा जिले के वाहनों की एंट्री है तो वही अंतरराज्जीय भारी वाहन भी हजारों की संख्या में रोजाना गुजरते हैं।

ऐसे में शासन द्वारा निर्धारित शुल्क के अलावा भी इन वाहनों को रायगढ़ की सीमा पर एंट्री की भेंट चढ़ा कर जाना होता है। वाहन चालकों की माने तो आरटीओ उड़नदस्ता के इस चक्र से शायद ही कोई वाहन निकल पाता होगा। लेकिन स्थानीय और राजनीतिक रसूख रखने वाले कुछ बड़े ट्रांसपोर्टर के सामने उड़नदस्ता की घिग्घी बंधी होने की चर्चा है। ये ट्रांसपोर्टर नियम कानून को आरटीओ उड़नदस्ता के अधिकारियों के जेब में डाल कर अपना काम करते हुए नजर आ रहे हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button