सरगुजा के लोककला की है अपनी एक अलग पहचान: मंत्री अमरजीत भगत

संस्कृति मंत्री ने संभाग स्तरीय आदिवासी नृत्य प्रतियोगिता का किया शुभारंभ

रायपुर, 20 अक्टूबर 2021 : संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत ने आज अंबिकापुर स्थित पीजी कॉलेज ग्राउंड में संभाग स्तरीय आदिवासी लोक नृत्य प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। यह कार्यक्रम आदिवासी विकास विभाग जिला सरगुजा द्वारा आयोजित की गई। मंत्री  भगत ने इस मौके पर प्रतिभागियों का उत्साह बढ़ाने के लिए सरगुजिया करमा गीत गाया और मांदर की थाप देकर थिरकने लगे।
मंत्री भगत ने आदिवासी लोक नृत्य प्रतियोगिता कार्यक्रम को संबोधित करते हुये कहा कि सरगुजा जिले के लोककला की अपने आप में एक अलग पहचान है।

जोश और ऊर्जा से भरपूर सरगुजा के लोकनृत्य-लोकगीत जैसे करमा, शैला, सुग्गा आदि कर्णप्रिय एवं आकर्षक है। सरगुजिहा करमा गीत हर किसी को गुनगुनाने को मंत्रमुग्ध कर देती है। भगत ने कहा कि यहां सरगुजा जिले में अलग-अलग विधा के गीत और नृत्य अलग-अलग समय पर किए जाते हैं।

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का अयोजन

उन्होंने कहा कि लोगों को आपस मे जोड़ने के लिए विगत वर्ष की भांति इस वर्ष भी संस्कृति विभाग द्वारा अन्य विभागों के समन्वय से राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का अयोजन राजधानी रायपुर के साईंस कॉलेज मैदान में 28 से 30 अक्टूबर को होने जा रही है। इस राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में छत्तीसगढ़ सहित देश के विभिनन राज्यों और विदेशों के कलाकार अपनी कला-संस्कृति, तीज-त्यौहार एवं पर्व तथा उत्सव पर आधारित नृत्य उत्सव का प्रदर्शन करेंगे।

भगत ने कहा कि छत्तीसगढ़ देश में पहल ऐसा राज्य है, जहां आदिवासी कला संस्कृति को सहेजने एवं संवारने के उद्देश्य से राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का उत्साह एवं उमंग के साथ आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर पार्षद दीपक मिश्रा, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास जे. आर. नागवंशी, अनुसंधान अधिकारी डी.पी नागेश सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button