5 किलोमीटर पथरीले पगडण्डी पर चलकर खाद्य मंत्री पहुंचे डायवर्सन निर्माण स्थल

छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्री अमरजीत भगत गुरूवार को मैनपाट प्रवास के दौरान पथरीले रास्ते और पगडण्डी पर पैदल चलते हुए करीब 5 किलोमीटर की दूरी तय कर ग्राम करम्हा में प्रस्तावित डायवर्सन निर्माण स्थल पहुंचे। उन्होंने यहां जल संसाधन विभाग द्वारा 6 करोड़ 15 लाख रुपये की लागत से बनने वाले करमहा मछली नदी व्यपवर्तन योजना का स्थानीय जनप्रतिनिधि, अधिकारी -कर्मचारी एवं ग्रामीणों की उपस्थिति में भूमिपूजन किया।

मंत्री श्री भगत ने अधिकारियों को डायवर्सन का निर्माण कार्य मे गुणवत्ता का ध्यान रखते हुए समय पर पूरा कराने के निर्देश दिए। उन्होंने स्थानीय जनप्रतिनिधियों को गुणवत्तापूर्ण निर्माण के लिए सतत निगरानी करने को कहा। उन्होंने कहा कि इस व्यपवर्तन के बनने से क्षेत्र में सिंचाई सुविधा का विस्तार होगा। सिंचाई सुविधा मिलने से किसान विविध फसलों के खेती के लिए प्रोत्साहित होंगे। अधिकारियो ने बताया कि करम्हा मछली नदी व्यपवर्तन योजना से करम्हा गांव के करीब 300 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई का विस्तार होगा।

खाद्य मंत्री ने इसके पश्चत ग्राम करम्हा में आयोजित कार्यक्रम में ग्रामीणों की समस्याएं भी सुनी। उन्होंने इस दौरान ग्रामीणों के राशन कार्ड, आधार कार्ड, वन अधिकार पत्र, पेंशन आदि से संबंधित आवेदनों के त्वरित निराकरण के निर्देश दिए। खाद्य मंत्री ने ग्राम पंचायत बिसरपानी में दो माह पूर्व हुए भू-स्खलन क्षेत्र का भी दौरा कर जायजा लिया। उन्होंने ग्रामीणों से भेंट कर हाल -चाल पूछा । क्षेत्र में भू -स्खलन से जन -हानि न हो इसके लिए अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।
ज्ञातव्य है कि विगत अगस्त माह मैनपाट में लगातार बारिश होने से ग्राम बिसरपानी में भू-स्खलन हुआ था जिसके कारण कई स्थानों और जमीन में 4 से 5 फीट की दरारें आ गई थी।इस दौरान छत्तीसगढ़ गौ सेवा आयोग के सदस्य श्री अटल बिहारी यादव, मुख्य वन संरक्षक श्री अनुराग श्रीवास्तव, डीएफओ श्री पंकज कमल, जल संसाधन विभाग के एसडीओ श्री मिंज सहित अन्य अधिकारी एवं ग्रामीण मौजूद थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button