राष्ट्रीय

सात दशक से नहीं खाया खाना वैज्ञानिक भी हैरान

प्रहलाद जानी के इस कारनामे से डॉक्टरों के साथ-साथ वैज्ञानिक भी हैरान हैं। उन्हें विश्वास नहीं हो रहा है कि कैसे एक आदमी बिना खाए-पिए इतने सालों तक जिंदा रह सकता है।

क्या कोई व्यक्ति सात दशक तक बिना खाए रह सकता हैं ? गुजरात के योगी प्रहलाद जानी इस समय देश में ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में चर्चा का विषय बने हुए हैं। योगी प्रहलाद का दावा है कि उन्होंने सात दशक से न तो कुछ खाया है और न ही पानी की एक बूंद पी है। लेकिन बावजूद इसके वह 85 साल की उम्र में बिलकुल स्वस्थ हैं। जानी को लोग ‘चुनरी वाली माता’ के नाम से पुकारते हैं।

प्रहलाद जानी के इस कारनामे से डॉक्टरों के साथ-साथ वैज्ञानिक भी हैरान हैं। उन्हें विश्वास नहीं हो रहा है कि कैसे एक आदमी बिना खाए-पिए इतने सालों तक जिंदा रह सकता है। इन वैज्ञानिकों में देश के पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम भी शामिल थे, जो जानी की अनूठी जीवनशैली का रहस्य जानने के लिए उत्सुक थे। इस रहस्य पर से पर्दा उठाने के लिए जानी के कई मेडिकल टेस्ट भी हुए। देश की जानी-मानी संस्था डीआरडीओ के वैज्ञानिकों की टीम ने सीसीटीवी कैमरे की नजर में 15 दिनों तक 24 घंटे नजर में रखा। यहां तक की उनके आश्रम के पेड़-पौधों का भी टेस्ट किया। लेकिन इन सबका कुछ नतीजा नहीं निकल सका।

पीने और उत्सर्जन की क्रिया से पूर्ण मुक्त रहने के दावे का बार-बार चिकित्सकीय और वैज्ञानिक परीक्षण किया जा चुका है। उनका परीक्षण करने वाले प्रख्यात न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. सुधीर शाह के अनुसार उनका शारीरिक ट्रांसफार्मेशन हो चुका है।

जानी का दावा है कि वह कई ऐसी बीमारियों का भी इलाज कर सकते हैं जिसका डॉक्टरों के पास भी इलाज नहीं है। उनका दावा है कि वह एड्स, एचआइवी जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज सिर्फ एक फल देकर कर सकते हैं। यही नहीं वह निसंतान व्यक्तियों का भी इलाज कर सकते हैं। गुजरात के जसवंत पटेल का कहना है कि माताजी ने सैकड़ों लोगों की बीमारी का इलाज किया है।

महिलाओं की तरह करते हैं श्रृंगार

प्रहलाद जानी का जन्म 13 अगस्त 1929 को हुआ था और महज 10 वर्ष की आयु में ही उन्होंने अध्यात्मिक जीवन के लिए अपना घर छोड़ दिया था। एक साल तक वह माता अंबे की भक्ति में डूबे रहे, जिसके बाद वह साड़ी, सिंदूर और नाक में नथ पहनने लगे। वह पूरी तरह से महिलाओं की तरह श्रृंगार करते हैं। पिछले 50 वर्ष से जानी गुजरात के अहमदाबाद से 180 किलोमीटर दूर पहाड़ी पर अंबाजी मंदिर की गुफा के पास रहते हैं।


पीएम मोदी भी जा चुके हैं जानी के आश्रम

प्रहलाद जानी के आश्रम कई राजनीति हस्तियां जाती रहती हैं। उनकी लोकप्रियता का अंदाजा आप इसी बात लगा सकते हैं कि पीएम मोदी भी उनके आश्रम जा चुके हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
सात दशक से नहीं खाया खाना वैज्ञानिक भी हैरान
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.