गरियाबंद/मीसाबंदियो की पेंशन जारी रखने और शीघ्र सत्यापन के लिए लोकतंत्र सेनानी संघ ने सौंपा ज्ञापन

- हितेश दीक्षित

गरियाबंद – राज्य में कांग्रेस सरकार बनने के बाद मीसाबंदियो को प्रतिमाह पेंशन स्वरूप दी जाने वाले वाली लोकनायक जयप्रकाश नारायण सम्मानिधि पर फरवरी माह से रोक लगा दी गई है। सरकार ने पेंशन देने से पहले मीसाबंदियो के सत्यापन की शर्त रखी है। जिसका प्रदेशभर में लोकतंत्र सेनानी संघ व सहयोगी संगठन लोकतंत्र प्रहरी विरोध कर रहा है। संघ का कहना है कि वे पेंशन योजना जारी रखते हुए भी सत्यापन का कार्य किया जा सकता है।

इस संबंध में प्रदेशभर में जिला स्तर पर संघ द्वारा ज्ञापन सौंपकर सत्यापन कार्य को पूरा करने की मांग की जा रही है। सोमवार को संघ के प्रदेश मंत्री महेन्द्र जैन एवं लोकतंत्र प्रहरी के जिलाध्यक्ष सुनील यादव के नेतृत्व में गरियाबंद में भी कलेक्टर को इस संबंध में एक ज्ञापन सौपा गया है। संघ के जिलाध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि संघ द्वारा शासन से मांग की गई है कि वे पेंशन योजना को जारी रखते हुए ही सत्यापन कार्य करे। वही जिला प्रशासन के माध्यम से एक निश्चित समयावधि सत्यापन हेतु तय कर शीघ्रता से इस कार्य को पूरा किया जाये।

यादव ने बताया कि कई परिवार पेंशन से ही अपना जीवनयापन कर रहे है पेंशन बंद होने उन्हें आर्थिक तंगी से गुजरना पडेगा। जिले में वर्तमान मंे तीन मीसाबंदी लोचन राम साहू कुटेना, चंदूलाल जैन राजिम और तिवारी है जिसे योनजा का लाभ मिल रहा है। इस अवसर पर मीसाबंदी परिवार के सदस्य गिरीश दत्त उपासने व नपा अध्यक्ष मिलेश्वरी साहू, केशव साहू, लोकतंत्र प्रहरी संघ के पदाधिकारी हरिनारायण त्रिवेदी, सरिता साहू, दिलीप राजपुत, पुष्पा साहू, रिंकी सेन्दुरे, सीमा सोनी आदि मौजुद थे।

Back to top button