दूसरी बार मां बनने के लिए औरतों को करना पड़ता हैं कई समस्याओं का सामना

मगर दूसरे बच्चे को जन्म देने का निर्णय बहुत रोमांचक होता है।

पहली बार माता-पिता बनने का अहसास बेहद खास होता है। मगर दूसरे बच्चे को जन्म देने का निर्णय बहुत रोमांचक होता है। पर दूसरी बार मां बनने के लिए औरतों को कई सारी समस्याओं को सामना करना पड़ता है।

वैसे गर्भधारण करने की सही उम्र 27 से 32 साल होती है लेकिन आजकल लेट शादी होने के कारण औरत 30 या 32 साल की उम्र में पहली बार मां बनती है। ज्यादा उम्र हो जाने के कारण भी कुछ औरतों को दूसरी बार मां बनने के लिए कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा भी दूसरी बार मां ना बनने के कई वजह हो सकती हैं।

1. मेल फैक्टर इनफर्टिलिटी

उम्र बढ़ने का असर सिर्फ महिलाओं पर ही नहीं बल्कि पुरूषों पर भी देखने को मिलता है। महिलाओं की फर्टिलिटी कम होने के साथ पुरूषों के शुक्राणुओं की गुणवता में असर पड़ने लगता है। फर्टिलिट में कमी के कारण ही दूसरी बार मां बनने में दिकक्ते होने लगती हैं।

2. मोटापा

 

पहली प्रैग्नेंसी के बाद औरतों का वजन बहुत ज्यादा बढ़ जाता हैं। मोटा भी दूसरी बार गर्भधारण करने में मुश्किल खड़ी करता है। वजन बढ़ने कारण शरीर को कई और समस्याएं होने लगती है।

3. दवाओं का सेवन

कुछ महिलाओं के शरीर में पहले बच्चे के बाद बहुत ज्यादा कमजोरी आ जाती है। उनको कई सारी दवाईयों को सेवन करना पड़ता है। इससे बहुत सारे साइ-इफैक्ट भी होने लगते हैं। यही नहीं कई बार गर्भनिरोधक गोलियों के प्रयोग से भी दूसरी बार गर्भधारण करने में समस्या आती है।

4. असामान्य ओव्यूलेशन

गर्भधारण करने के लिए ओव्यूलेशन का अहम योगदारन होता है। पीरियड के बाद दूसरे सप्ताह का समय ओव्यूलेशन का होता है। इस दौरान शारीरिक संबंध बनाने से गर्भधारण होता है। मगर पहले बच्चे के बाद ओव्यूलेशन अनियमित हो जाते हैं। इसकी वजह से भी महिलाएं दूसरी बार गर्भधारण नहीं कर पाती। <>

Back to top button