दो साल से गांव में आदिवासी परिवार की एंट्री बैन है

महासमुंद : महासमुंदजिले के सांकरा विकासखंड अंतर्गत ग्राम पड़कीपाली में तीन आदिवासी परिवार का दो साल से हुक्का—पानी बंद है. इस परिवार का अपने रिश्तेदारों से विवाद के कारण गांव वालों ने इन्हें गांव से ही बेदखल कर हुक्का पानी बंद कर दिया है.

इनकी मदद करने पर अर्थदंड व शिकायत करने पर इनाम देने की घोषणा भी की गई है.

पड़कीपाली गांव नक्सल प्रभावित क्षेत्र में शामिल है और घने जंगलों से घिरा हुआ है. यहां रहने वाले तीन आदिवासी परिवार दो साल से समाज से बहिष्कार का दंश झेलने को मजबूर हैं. इसके चलते तीनों परिवारों को गांव से बाहर ही रहना पड़ रहा है.

मिली जानकारी के मुताबिक आदिवासी शौकिलाल और सुकलाल का उसके चाचा भीमसेन से भूमि सबंधित मामला जिला न्यायालय में लंबित था. चाचा भीमसेन केस हारने के बाद पड़किपाली के मुखिया त्रिलोचन मणिधर और गांव वालों के साथ मिलकर दबंगई से उन्हें गांव से बहार निकाल दिया. बताते हैं कि विरोध करने पर परिवार वालों के साथ मारपीट की गई.

1
Back to top button