छत्तीसगढ़

पुन्नी मेला देख विदेशी दंपत्ति ने कहा, ‘इट्स वेरी एक्साइटिंग’

दीपक वर्मा:

राजिम: छत्तीसगढ़ की समृद्ध संस्कृति, लोककला और पारंपरिक खेल का सबसे बड़ा मंच राजिम माघी पुन्नी मेला इस बार विदेशी पर्यटकों के लिए आकर्षण का बड़ा केंद्र रहा। इसकी भव्यता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले 15 दिनों में इटली, ऑस्ट्रेलिया सहित हॉलैंड से यहां पर्यटक आ चुके हैं। आज हॉलैंड से आई एक दंपत्ति ने मेला की भव्यता देख बड़े ही उत्साह से कहा – ‘इट्स वेरी एक्साइटिंग’।

अपने पुराने स्वरूप में लौटा माघी पुन्नी मेला इस बार कई मायनों में खास बन चुका है। छत्तीसगढ़ की पारंपरिक लोककला और खेलों को बढ़ावा देने के साथ ही स्थानीय कलाकारों को इस बार प्राथमिकता दी गई है। वहीं इस समृद्ध संस्कृति को देखने पहुंचे विदेशी पर्यटकों के लिए भी यह बहुत ही आकर्षक और उत्साह से भरा हुआ साबित हुआ।

हॉलैंड से आए जेर्डी ने आज अपनी पत्नी के साथ पूरे मेला स्थल का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने मेला की हर गतिविधि को अपनी कैमरे में कैद किया। उन्होंने कहा कि यह उनके लिए एक बहुत ही नया और सुखद अनुभव रहा। उन्होंने छत्तीसगढ़ शासन की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनका यह आयोजन बेहद सराहनीय है।

पहली बार आए राजिम

जेर्डी ने चर्चा के दौरान बताया कि वे मूल रूप से हॉलैंड के नागरिक हैं लेकिन पिछले 19 वर्षों से बाली (इंडोनेशिया) में निवासरत हैं। उन्होंने बताया कि वे 5 बार भारत यात्रा कर चुके हैं। इस बार यात्रा के दौरान उन्होंने राजिम के बारे में सुना और यहां पहुंचे। यहीं की समृद्ध संस्कृति और साधु- संतों को देख वे खासे उत्साहित हुए और यह उनके लिए एक बहुत ही सुखद अनुभव रहा।

लोगों से मिलना बहुत ही सुखद

जेर्डी व उनकी पत्नी ने बताया कि पिछले 3 सप्ताह से वे भारत यात्रा पर हैं इस दौरान यहां के लोगों से मिलना उनके लिए बहुत ही सुखद अनुभव रहा। खासकर छत्तीसगढ़ में राजिम में लोगों ने हमसे बहुत ही आत्मीयता से व्यवहार किया और हमें भी उनसे मिलकर बहुत खुशी हुई।

Tags
Back to top button