वन विभाग कर्मचारी ने बाघ के साथ बनाया वीडियो, दिल्ली से जांच के आदेश, पार्क प्रबंधन ने दी सफाई

उमरिया। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के बमेरा इंक्लोजर में रखे गए एक युवा बाघ के साथ वन विभाग के एक कर्मचारी का वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में पहले बाघ दिखाई देता है और पीछे से आवाज आ रही है जिसमें मामू नाम के किसी कर्मचारी को वो लोग इंक्लोजर के अंदर जाने से रोक रहे हैं जो शायद वीडियो भी बना रहे हैं।

कुछ ही सेकंड बाद यह कर्मचारी वीडियो में दिखाई देने लगता है जो सामने बैठे बाघ के पास पहुंच जाता है और उसकी गर्दन में हाथ फेरकर उसे खिलाने लगता है। बाघ भी उसके प्रेम को समझता हुआ नजर आता है और उसके दुलार से वह लेट जाता है। इसके बाद जब यह कर्मचारी वहां से लौटता है तो बाघ भी उसके साथ चलने लगता है। इसके बाद मामू एक बार फिर बाघ को स्नेह से खिलाता है।

बमेरा इंक्लोजर में बाघ के साथ नजर आ रहा वन कर्मी मामू दरअसल बाघ का हैंडलर है। वह इस बाघ को बचपन से ही हैंडल करता आ रहा है जिससे बाघ उसे बेहतर ढंग से पहचानने लगा है। हालांकि इस तरह का वीडियो वाइल्ड लाइफ एक्ट का उल्लंघन है। यह वीडियो एनटीसीए तक पहुंच गया है और दिल्ली के अधिकारियों ने मामले की जांच के निर्देश दे दिए हैं। इस बारे में एसडीओ अनिल शुक्ला ने बताया कि जांच के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

उप संचालक ने दी सफाई

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के उप संचालक डीसी गुप्ता ने विज्ञप्ति जारी कर मामले में सफाई दी है। उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर एक बाघ शावक का वीडियो वायरल हो रहा है, जो 5 से 6 माह पुराना है। वीडियो में दिखाया गया कर्मचारी बाघ का हैंडलर है। वर्तमान में बाघ को इंक्लोजर में रखा गया है, जहां री बिल्डिंग की प्रक्रिया जारी है एवं मानव संपर्क को यथा संभव न्यूनतम रखा गया है।

मामू ने ही संभाला शावकों को

दो साल पहले संजय धुबरी की एक बाघिन का शिकार शहडोल जिले के ब्यौहारी में कर दिया गया था। उस बाघिन के लगभग दो महीने के तीन शावकों की देखभाल भी मामू ने की थी। उन तीनों शावकों में से एक की रोग के कारण मौत हो गई थी।

Back to top button