​​​​​​​वन मंत्री अकबर ने ‘हरियर छत्तीसगढ़ कोष वृक्षारोपण‘ कार्यक्रम की समीक्षा की

उद्योगों द्वारा कोष में देय राशि को शीघ्र जमा करने के निर्देश

  • अब तक देय 357 करोड़ रूपए में से 197 करोड़ रूपए की राशि जमा
  • उद्योग के आस-पास का क्षेत्र हमेशा रहें हरा-भरा

रायपुर, 23 जून 2021 : वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर ने आज अटल नगर, नवारायपुर स्थित अरण्य भवन में आयोजित बैठक में राज्य में उद्योगों द्वारा पर्यावरण सुधार हेतु वृक्षारोपण की प्रगति के संबंध में विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने इस दौरान ‘हरियर छत्तीसगढ़ कोष वृक्षारोपण‘ कार्यक्रम के अंतर्गत विभिन्न औद्योगिक प्रतिष्ठानों को अब तक लंबित देय राशि को अविलंब जमा करने के लिए सख्त निर्देश दिए। साथ ही उद्योगों के आस-पास के क्षेत्र में अधिक से अधिक वृक्षारोपण कर उसे हमेशा हरा-भरा रखने के लिए कहा।

वन मंत्री अकबर ने ‘हरियर छत्तीसगढ़ कोष वृक्षारोपण‘ कार्यक्रम में देय तथा जमा राशि की प्रगति के संबंध में उद्योगवार समीक्षा की। इनमें राज्य के वृहद उद्योगों द्वारा वित्तीय वर्ष 2016-17, 2017-18, 2018-19 तथा 2019-20 में जमा राशि के बारे में जानकारी ली। इसके तहत कोष में अब तक लक्ष्य 357 करोड़ रूपए के विरूद्ध 197 करोड़ रूपए की राशि जमा हुई है। उन्होंने उद्योगों को शेष 160 करोड़ रूपए की राशि को हरियर छत्तीसगढ़ कोष वृक्षारोण में शीघ्रातिशीघ्र जमा करने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने इस दौरान संबंधितों को लंबित उपयोगिता प्रमाण-पत्र भी शीघ्रता से उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया।

वन मंत्री अकबर ने

वन मंत्री अकबर ने बैठक में राज्य के सीमेंट तथा स्पंज आयरन औद्योगिक ईकाईयों द्वारा पर्यावरण सुधार के लिए किए गए वृक्षारोपण की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने चालू वर्ष के दौरान इनके द्वारा किए जाने वाले वृक्षारोपण के लिए जल्द से जल्द लक्ष्य आबंटित करने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी औद्योगिक ईकाईयों को वर्षवार वृक्षारोपण की वीडियोग्राफी सहित जानकारी उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए। इस अवसर पर प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख राकेश चतुर्वेदी, प्रधान मुख्य वन संरक्षक राज्य वन विकास निगम पी.सी. पाण्डेय, मुख्य कार्यपालन अधिकारी कैम्पा व्ही.श्री निवासराव, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक सुनील मिश्रा सहित औद्योगिक प्रतिष्ठानों के प्रमुख उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button