वन मंत्री अपनी सरकार की विफलताओं का जवाब दें : कांग्रेस

रायपुर:वनमंत्री महेश गागड़ा ने छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार की 14 वर्षों की उपलब्धियों का बखान बढ़-चढ़कर किया है धरातल में ठीक इसके विपरीत दिखाई देता है। वन और वनवासियों के कल्याण के मामले में भाजपा सरकार विफल रही है। बुधवार को ये बातें कांग्रेस प्रवक्ता महेन्द्र छाबड़ा ने कही।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के आदिवासी नेताओं ने वनमंत्री से सवालों के जवाब मांगे हैं।

उन्होंने सवाल किया कि, 14 वर्षों में छत्तीसगढ़ के वनवासी परिवारों को वनभूमि अधिकार पत्र देने में सरकार नाकाम क्यों हो गयी? छत्तीसगढ़ के 13 लाख तेंदूपत्ता संग्रहण करने वाले वनवासियों को जिनकी आमदनी का महत्वपूर्ण जरिया तेंदूपत्ता संग्रहण होता है, उन्हें 14 वर्षो में उनकी मेहनत की अनुपात में प्रति मानक बोरा में बढ़ोत्तरी क्यों नहीं की? वनवासियों को चरण पादुकाएं देने की बात कही थी जो पूरी तरह धरातल में दिखाई नहीं देती, इसमें हुये भ्रष्टाचार की जांच कब करेंगे?

महुआ बीज, साल बीज, चिरौंजी, गुठली, हर्रा, लाख और इमली सहकारी समितियों के माध्यम से खरीदे जाने की बात आपके विभाग ने की थी, पर सभी चीजें खुले बाजार में बिचौलिये खरीद रहे हैं। समर्थन मूल्य में उपरोक्त लघुवनोपज खरीदने में आपका विभाग इस दिशा में इन 14 वर्षो में कुछ भी नहीं कर पाया।

इसके लिये कौन जिम्मेदार है? आपके विभाग की ओर से चलाए जाने वाले हरियर अभियान पूरी तरह से बर्बाद हो गए। विभाग ने इस अभियान के लिये 39 करोड़ पौधे लगाये गये हैं जिसमें करोड़ों रुपए खर्च कर दिए और धरातल में हरियर अभियान की कोई उपलब्धिया दिखाई नहीं देती? कांग्रेस नेताओं ने कहा कि आपको पहले कांग्रेस के उठाये इन सवालों के जवाब जनता को देने होंगे।

Back to top button