राष्ट्रीय

बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी के परिवार के चार सदस्यों ने की आत्महत्या

इन चार सदस्यों ने परिवार के जवान बेटे की मौत के कारण पैदा हुए मानसिक अवसाद की वजह से आत्महत्या की

सीकर:राजस्थान के सीकर में जवान बेटे की मौत के कारण पैदा हुए मानसिक अवसाद की वजह से भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी के परिवार के चार सदस्यों ने आत्महत्या कर ली है.

इन 4 लोगों में हनुमान प्रसाद सैनी, उनकी पत्नी तारा और दो बेटियां अनु एवं पूजा हैं, इन्होंने फांसी के फंदे पर लटककर आत्महत्या कर ली. हनुमान प्रसाद सैनी भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी के सगे भाई के बेटे थे.

हनुमान प्रसाद सैनी द्वारा छोड़े गए सुसाइड नोट में यह कहा गया है कि उनके बेटे की मौत के बाद वे लोग जी नहीं पा रहे थे. घटना की खबर मिलने के बाद सीकर जिले में उद्योग नगर पुलिस मौके पर पहुंची. चारों शवों को जिले के श्री कल्याण राजकीय अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया है.

बता दें कि हनुमान प्रसाद सैनी के 18 साल के बेटे की मौत सितंबर 2020 में हो गई थी. प्रथम दृष्टया माना जा रहा है कि सितंबर के महीने में हुई जवान बेटे की मौत से परिवार मानसिक तनाव में था जिसकी वजह से परिवार के चारों सदस्यों ने आत्महत्या कर ली. सीकर के पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप भी घटनास्थल पर पहुंचे. इस घटना से पूरे इलाके में दुख फैला हुआ है.

मदन लाल सैनी को राजस्थान में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के पद पर 2018 में नियुक्त किया गया था जब वसुंधरा राजे प्रदेश की मुख्यमंत्री थीं. सैनी को अशोक परनामी की जगह अध्यक्ष नियुक्त किया गया था जिन्हें भाजपा द्वारा अलवर और अजमेर के लोकसभा उपचुनाव और मांडलगढ़ के विधानसभा चुनाव हार जाने के बाद पद से हटाया गया था.

सीकर शहर के सीओ वीरेंद्र शर्मा ने कहा कि पुरोहित जी की ढाणी में एक ही परिवार के 4 लोगों द्वारा सुसाइड करने की सूचना मिली थी ऐसे में जब मौके पर पहुंचे तो एक ही परिवार के 4 लोग फांसी पर लटके हुए पाए गए जिसमें एक दंपति सहित उनकी दोनों पुत्रियां हैं.

पुलिस के अनुसार आसपास के लोगों से प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया है कि कुछ महीने पहले 17-18 वर्ष के जवान बेटे की मौत के बाद पूरा परिवार मानसिक अवसाद में था फिलहाल पूरे मामले में अनुसंधान जारी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button