छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस एके त्रिपाठी की दिल्ली में कोरोना से मौत

2 अप्रैल से दिल्ली एम्स में चल रहा था इलाज

रायपुर: पटना उच्च न्यायालय में न्यायाधीश रहने के बाद स्थानांतरित होकर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रहे 63 वर्षीय पूर्व चीफ जस्टिस एके त्रिपाठी का कोरोना संक्रमण के चलते दिल्ली में निधन हो गया.

अप्रैल के शुरुआती सप्ताह में उनमें कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी, जिसके बाद उन्हें नाजुक हालत में उन्हें दिल्ली अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के आईसीयू में भर्ती किया गया था।

एके त्रिपाठी को एम्स के ट्रामा सेंटर में रखा गया था। त्रिपाठी कोरोना के ऐसे पहले मरीज थे जिनका इलाज ट्रामा सेंटर में किया जा रहा था। अस्पताल में भर्ती के बाद से ही उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था,

हालांकि अस्पताल में कुछ दिन के लिए उनकी सेहत सुधरी भी थी, लेकिन उसके बाद अचानक से फिर उऩकी तबीयत बिगड़ गयी। उन्हें ICU में ही रखा गया था। पिछले कई दिनों से वे वेंटिलेटर पर थे।

जानकारी के मुताबिक दिल्ली में उनके परिवार में उनकी बेटी और रसोईया को भी कोरोना संक्रमण हुआ था, लेकिन बाद में वो दोनों ठीक हो गये थे, लेकिन एके त्रिपाठी की सेहत बिगड़ती चली गयी। जस्टिस त्रिपाठी अभी लोकपाल के सदस्य थे।

न्यायमूर्ति त्रिपाठी पटना उच्च न्यायालय में न्यायाधीश थे, जहां से स्थानांतरित होकर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने थे। बाद में उन्होंने लोकपाल के न्यायिक सदस्य के रूप में योगदान देना शुरू किया और अभी इसी पद पर कार्यरत थे।

Tags
Back to top button