राजनीतिराष्ट्रीय

पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कांग्रेस के विधायक को भेजा कानूनी नोटिस

विधायक ने बीजेपी में जाने के लिए पैसों की पेशकश करने का लगाया था आरोप

जयपुर:पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की ओर से कांग्रेस के विधायक र्राज सिंह मलिंगा को अपने ऊपर बीजेपी में जाने के लिए पैसों की पेशकश करने के आरोप लगाने पर विधायक को कानूनी नोटिस भेजा है पायलट का कहना है कि विधायक ने उनके खिलाफ झूठे और द्वेषपूर्ण बयान दिये.

कांग्रेस विधायक मलिंगा ने सोमवार को आरोप लगाया था कि तत्कालीन उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने उनसे पार्टी छोड़कर बीजेपी में जाने के बारे में चर्चा की थी और इसके लिए धन की पेशकश भी की थी.

पायलट ने इस आरोप को ‘आधारहीन व अफसोसजनक’ बताते हुए खारिज कर दिया और कहा था कि विधायक से यह बयान दिलवाया गया है और वह उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई करेंगे.

पायलट ने पैसे लेकर बीजेपी में जाने का ऑफर दिया था- कांग्रेस MLA

बता दें कि कांग्रेस विधायक मलिंगा ने दावा किया है कि खुद सचिन पायलट ने उन्हें पार्टी बदलने का ऑफर दिया था और कहा था कि जितना पैसा चाहिए उतना मिलेगा. उनका दावा है कि यह बातचीत दो से तीन बार हुई है और सचिन पायलट के घर जब वो किसी काम से गए थे तब हुई थी. हालांकि गिरिराज का कहना है कि उन्होंने सचिन पायलट का ऑफर मानने से इंकार कर दिया था.

मलिंगा ने बताया, “मुझसे यह बात दिसंबर में जब परसीमन का काम चल रहा था तब हुई थी. मैंने उनको यही समझाया कि मैं आपके साथ नहीं हूं. मैं गहलोत साहब के साथ हूं और आप ही गलत कर रहे हैं. हम कांग्रेस से जीत कर आए और इस्तीफा देकर बीजेपी में जाएं, तो यह गलत होगा. हम पैसे लेकर रिजाइन दे रहे हैं और फिर हम बीजेपी से लेकर चुनाव लड़ें, ये गलत होगा.”

जब गिरिराज से सवाल किया गया कि क्या सचिन पायलट ने उनसे कहा था कि बीजेपी ज्वाइन करनी है? इस पर उन्होंने कहा, “हां, लेकिन मैंने मना कर दिया. मैंने उनसे यह कहते हुए मना कर दिया कि क्या जीवन भर यही करेंगे. पहले मैंने बहुजन पार्टी छोड़ी और कांग्रेस में आया. फिर कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में जाएं तो जीवन भर यही करेंगे क्या.”

कितने पैसे का ऑफर था और कैसे मिलने वाला था? इस सवाल पर गिरिराज ने कहा, “उन्होंने पैसे के लिए कहा कि आपको पैसा मिल रहा है. आपको बताऊं की रेट एक ही है 35 करोड़ रुपये का रेट है. कुछ काम ज्यादा भी हो सकता है.”

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button