राष्ट्रीय

पूर्व सांसद और पत्रकार की भतीजी को इलाज नहीं मिलने से हुई मौत

पूर्व सांसद ने अस्पताल पर लगाया इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप

नई दिल्ली: पूर्व सांसद और पत्रकार शाहिद सिद्दीकी की भतीजी की इलाज में लापरवाही के चलते मौत हो गई है. सिद्दीकी की भतीजी ने सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया. इसके बाद पूर्व सांसद ने अस्पताल पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया.

पूर्व सांसद ने ट्वीट कर कहा, ‘दुर्भाग्यवश मेरी भतीजी की सफदरजंग हॉस्पिटल में मौत हो गई है. मैं आप सभी की चिंताओं के लिए शुक्रिया करता हूं, लेकिन हॉस्पिटल की स्थिति बहुत दयनीय है और कई लोग मर रहे हैं.’

शाहिद सिद्दीकी ने सफदरजंग हॉस्पिटल पर इलाज में लापरवाही करने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘मेरी भतीजी की हालात बेहद गंभीर थी, लेकिन फिर भी उसको न आईसीयू केयर दिया गया और न ही वेंटिलेटर पर रखा गया.

हॉस्पिटल लोगों को बचाने की कोशिश भी नहीं कर रहे हैं. मुझको दिल्ली के लोगों पर तरस आता है. इस समय राजनीति और दोषारोपण नहीं करना चाहिए. दिल्ली में केजरीवाल सरकार और केंद्र सरकार के बीच घनिष्ठ समन्वय की जरूरत है.’

शाहिद सिद्दीकी ने कहा, ‘कोरोना वायरस पर राजनीति करना और आरोप-प्रत्यारोप करना बंद करो. अगर हमारी सरकारें, मीडिया, ब्यूरोक्रेसी, हेल्थ प्रोवाइडर्स, एनजीओ, सोशल सिस्टम और प्रत्येक संस्था एकजुट होकर नहीं खड़े हो सकते हैं, तो हमारे यहां एक बड़ा संकट आने वाला है. यह एक नेशनल इमरजेंसी है.’

भतीजी को लेकर एक हॉस्पिटल से दूसरे हॉस्पिटल भटकते रहे

इससे पहले पूर्व सांसद और पत्रकार शाहिद सिद्दीकी ने बताया था कि उनकी भतीजी दिल्ली के एक हॉस्पिटल से दूसरे हॉस्पिटल भटकती रही, लेकिन किसी ने भर्ती नहीं किया. इसके बाद उन्होंने ट्वीट कर अपनी आपबीती सुनाई और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से मदद मांगी थी.

शनिवार को शाहिद सिद्दीकी ने ट्वीट किया था, ‘मेरी भतीजी को तेज बुखार और सांस लेने में दिक्कत हो रही है. उसको इलाज के लिए एक हॉस्पिटल से दूसरे हॉस्पिटल ले जाया गया, लेकिन कोई भी भर्ती करने को तैयार नहीं हुआ. ये कैसा सिस्टम हम चला रहे हैं?’ शाहिद सिद्दीकी ने अपने ट्वीट के साथ सीएम केजरीवाल और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को भी मेंशन किया था. साथ ही मदद की गुहार लगाई थी.

दिल्ली के अस्पतालों की ऐसी हालत उस समय है, जब कोरोना मरीजों के इलाज के लिए केंद्र सरकार और दिल्ली की केजरीवाल सरकार बड़े-बड़े दावे कर रही हैं. केजरीवाल सरकार का तो यहां तक कहना है कि दिल्ली के अस्पतालों में पर्याप्त बेड हैं. अस्पतालों में बेड की जानकारी को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में एक ऐप भी लॉन्च किया था.

Tags
Back to top button