राष्ट्रीय

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत लगातार नाजुक, वेंटिलेटर पर

सोशल मीडिया पर चल रही पूर्व राष्ट्रपति की निधन की झूठी अफवाह

नई दिल्ली: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को सप्ताह के पहले दिन सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है. साथ ही मस्तिष्क की सर्जरी से पहले उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. पूर्व राष्ट्रपति की हालत बिगड़ गई और उनकी स्थिति में सुधार का कोई लक्षण नहीं दिखा है और वह वेंटिलेटर पर हैं.

वहीँ पूर्व राष्ट्रपति के निधन की अफवाह सोशल मीडिया पर चल रही है. सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल ने एक बयान में कहा, प्रणब मुखर्जी की हालत लगातार नाजुक बनी हुई है. इस समय उनकी हालत रक्त प्रवाह के लिहाज से स्थिर है और वह वेंटिलेटर पर हैं.

प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट किया कि मेरे पिता अभी भी जीवित हैं. उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर फेक न्यूज चलायी जा रही है. फेक न्यूज को लेकर अभिजीत मुखर्जी मीडिया पर नाराज नजर आये.

शर्मिष्ठा मुखर्जी का ट्वीट :

पूर्व राष्ट्रपति की पुत्री एवं कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने अपने पिता के स्वास्थ्य के लिए भगवान से प्रार्थना की. उन्होंने ट्वीट किया, पिछले साल आठ अगस्त का दिन मेरे लिए सर्वाधिक प्रसन्नता के दिनों में से एक था जब मेरे पिता को भारत रत्न मिला था. ठीक एक साल बाद 10 अगस्त को वह गंभीर रूप से बीमार हो गए.

शर्मिष्ठा ने लिखा, उनके पिता के लिए जो भी सर्वश्रेष्ठ हो, ईश्वर वह करें और मुझे जीवन में आने वाले खुशी और दुख के क्षणों को समान रूप से सहने की शक्ति प्रदान करें. मैं उनके लिए चिंता करने वाले सभी लोगों का धन्यवाद व्यक्त करती हूं.

प्रणब मुखर्जी के गृहनगर में उनके स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना जारी सूरी: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के शीघ्र स्वस्थ होने के लिए पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले स्थित उनके गृहनगर किरनाहर में बुधवार को प्रार्थनाओं का सिलसिला जारी है.

मुखर्जी के गृहनगर के लोगों ने उनके स्वस्थ होने के लिए मंगलवार को जन्माष्टमी पर 72 घंटे का ‘यज्ञ’ शुरू किया था. किरनाहर से कुछ किलोमीटर दूर मुखर्जी के पुश्तैनी गांव मिरिति में उनके परिजन ने भी पूजा अर्चना की. केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रपति रहते हुए मुखर्जी प्रतिवर्ष दुर्गा पूजा के अवसर पर अपने गांव आते थे.

मुखर्जी को एक दुर्घटना में सिर में चोट आयी थी :

दिल्ली में सेना के अस्पताल में ब्रेन सर्जरी के बाद पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है. ऐसे में 13 साल पहले एक कार दुर्घटना के बाद उनका इलाज करने वाले पश्चिम बंगाल में नदिया जिले के एक डॉक्टर का कहना है कि बेइंतहा दर्द के बावजूद वह बहुत शांत और सौम्य मरीज थे.

पेशे से स्त्री रोग विशेषज्ञ और कृशनगर में एक नर्सिंग होम के मालिक डॉक्टर बासुदेव मंडल सात अप्रैल, 2007 की रात को याद करते हैं. वह कहते हैं, उस दिन मुर्शिदाबाद जिले से कोलकाता लौटते हुए नदिया जिले में नकाशीपाड़ा में मुखर्जी की कार दुर्घटनाग्रस्त हो गयी. एक ट्रक ने तत्कालीन वित्त मंत्री मुखर्जी की कार को टक्कर मार दी और उनके सिर में चोट आयी.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button