पूर्व राज्यसभा सांसद बलिहारी बाबू का कोरोना से निधन

निधन पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दुख जताया

आजमगढ़: आजमगढ़ में बामसेफ व डीएस-4 के संस्थापक सदस्य और पूर्व राज्य सभा सांसद बलिहारी बाबू का बुधवार की सुबह कोरोना से निधन हो गया. हॉस्पिटल में बेड न मिलने की वजह से बलिहारी बाबू का आजमगढ़ शहर के हरवंसपुर स्थित आवास पर इलाज चल रहा था.. उनके निधन से जनपद में शोक की लहर दौड़ गई. बसपा से राजनीतिक कैरियर शुरू करने वाले स्व. बलिहारी बाबू का जीवन सपा में जाकर खत्म हुआ.

उनके निधन पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दुख जताया है. अखिलेश यादव ने ट्वीट किया है, “सपा के वरिष्ठ नेता, पूर्व राज्यसभा सांसद एवं बहुजन आंदोलन के योद्धा श्री बलिहारी बाबू जी का निधन, अपूरणीय क्षति. दिवंगत आत्मा को शांति दे भगवान. शोकाकुल परिजनों के प्रति संवेदना. भावभीनी श्रद्धांजलि.”

दो बार बसपा ने भेजा राज्यसभा

बलिहारी बाबू को बहुजन समाज पार्टी से दो बार राज्यसभा जाने का मौका मिला. 2006 में कांशीराम के निधन के बाद वर्ष 2007 में उन्हें फिर राज्यसभा जाने का मौका मिला लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया. इसके बाद बलिहारी बाबू को पार्टी से निकाल दिया गया.

बसपा के बाद उन्होंने कांगेस ज्वाइन की. फिर 2014 में लालगंज संसदीय सीट से चुनाव लड़ा. लेकिन वह कांग्रेस को जिता नहीं सके. इसके बाद 2017 में उन्होंने बसपा में वापसी की लेकिन उन्हें यहां पुराना कद नहीं मिला. आखिरकार 2020 में उन्होंने बसपा छोड़कर सपा का दामन थामा.

बहुजन आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका
बलिहारी बाबू ने बसपा के संस्थापक स्वर्गीय कांशीराम के साथ बहुजन समाज के आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. 1984 में जब कांशीराम ने बामसेफ और डीएस-4 के जरिए दलित, पिछड़े और मुस्लिम समाज को एकजुट करने के लिए पूरे उत्तर प्रदेश में साइकिल यात्रा निकाली तो बलिहारी बाबू उनके साथ खड़े थे.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button